भेड़िये ने किया 4 लोगों पर हमला

  • 2 महिलाएं एवं 2 पुरुष घायल
  • अस्पताल में चल रहा घायलों का उपचार

मनमाड.  तेंदुओं द्वारा बस्तियों में घुसकर लोगों पर हमला करने की घटनायें आये दिन होती रहती हैं, अब भेड़िए भी गांवों में घुसकर लोगों पर हमला करने लगे हैं, ऐसी ही एक घटना मनमाड के समीप हिसवल बुद्रुक गांव में हुई. खेत जा रहे चार लोगों पर भेड़िये ने अचानक हमला करके उन्हें गंभीर रूप से घायल कर दिया है. घायलों में दो महिला और दो पुरुष शामिल हैं. इन सभी को मनमाड के उपजिला अस्पताल में दाखिल किया गया है.

खेत जाते समय हुई घटना

मनमाड की कुछ दूरी पर हिसवल बुद्रुक नाम का गांव है. आज तड़के मीना आहेर(आयु -45),सुनीता पवार(आयु  35), जगन आहेर(आयु 65) एवं मोहन सोलसे (आयु  30)  ये चार लोग खेत में काम करने के लिए जा रहे थे. तभी उन पर भेड़िया टूट पड़ा.अचानक हुए इस हमले से सभी लोग घबरा गए. उन्हें लगा कि शायद तेंदुए ने हमला किया. इसलिये उन्होंने शोर मचाना शुरू किया. उनकी आवाज सुनकर गांव के लोग घटनास्थल की ओर दौड़ पड़े.लोगों को आता देख भेड़िया भाग खड़ा हुआ. भेड़िये के हमले में चारों लोग गंभीर रूप से घायल हो गए. उन्हें तुरन्त मनमाड के उपजिला अस्पताल में दाखिल किया गया. घटना की जानकारी मिलने के बाद वनाधिकारी डी.बी.बोरसे,डी.जी.सूर्यवंशी,सी.इ.भुजबल,अशोक सोनावणे आदि अस्पताल पहुंचे और उन्होंने घायलों का हालचाल जानने के बाद उनसे भेड़िये को लेकर जानकारी ली.

क्षेत्र में दहशत का माहौल

इस घटना खलबली मच गयी है. हिसवल गांव के साथ साथ इस परिसर के कई गांवों में पहले आवारा कुत्तों के गिरोह ने आतंक मचा रखा था. अब भेड़ियों के जंगल छोड़कर गांव में घुस आने से लोगों में डर एवं दहशत का माहौल पैदा हो गया है.

भेड़िये का यह हमला पहली घटना

उल्लेखनीय है की मनमाड समेत समूचे नांदगांव तहसील में वन विभाग का सैकड़ों हेक्टेयर में जंगल फैला  है उसमें हिरण,मोर,खरगोश के साथ साथ भेड़िये भी पाये जाते हैं. हालांकि बड़े पैमाने पर भेड़िये होने के बावजूद कभी उन्होंने लोगों पर हमला नहीं किया था. लोगों पर भेड़िये द्वारा किये गए हमले की यह पहली घटना मानी जा रही है.