आसमां से टपके खजूर में अटके, डेल्टा प्लस डट के लॉकडाउन के झटके

    पड़ोसी ने हमसे कहा, ‘‘निशानेबाज, अब तक हमें यह पता था कि नदी जब समुद्र में जाकर मिलती है तो वहां डेल्टा बन जाता है. अमेरिका में एक डेल्टा एअरलाइंस भी थी, लेकिन अब तो कोरोना महामारी का डेल्टा प्लस वैरिएंट सामने आ गया है. यह बेहद चिंताजनक है. देश के 12 राज्यों में डेल्टा प्लस पहुंचा है जिसके सबसे ज्यादा मामले महाराष्ट्र में हैं. रत्नागिरी में एक व्यक्ति की इससे मौत हो गई. विशेषज्ञों की राय में कोरोना की तीसरी लहर डेल्टा प्लस वैरिएंट के कारण आ सकती है.’’

    हमने कहा, ‘‘कोरोना वायरस कितने ही रूप बदले, राज्य के प्रमुख डा. रणदीप गुलेरिया का कहना है कि कोविड प्रोटोकाल के पालन, सही ट्रेकिंग और टीके के जरिए डेल्टा प्लस को रोका जा सकता है. आप को एक शेर सुनाते हैं- फिल्म में विलन की हसरत नहीं हो पाई पूरी, क्योंकि वहां थी 2 गज की दूरी और मास्क भी जरूरी. जब तक कोरोना है हीरोइन तक विलन पहुंच ही नहीं सकता.’’ पड़ोसी ने कहा, ‘‘निशानेबाज, महाराष्ट्र सरकार ने डेल्टा प्लस वैरिएंट के फैलाव को रोकने के लिए प्रतिबंध सख्त कर दिए है. लेवल 3 के प्रतिबंध जारी रहेंगे. दूकानें, रेस्टोरेंट व प्रतिष्ठान शाम 4 बजे तक खुले रहेंगे.

    शाम 4 बजे के बाद खाना पॅक कर घर ले जाने (टेक अवे) और होम डिलीवरी की अनुमति होगी. सरकार का कहना है कि नए वैरिएंट का खतरा जैसे ही टलेगा, प्रतिबंध हटा लिए जाएंगे.’’ हमने कहा, ‘‘वैक्सीन लगवाकर खुद की सुरक्षा की जा सकती है. महाराष्ट्र 3 करोड़ टीके लगानेवाला देश का पहला राज्य है. डेल्टा वेरिएंट से डरो मत लेकिन अपना बचाव करो. भीड़ वाले ठिकानों पर मत जाओ और बार-बार हाथ धोते रहो. मास्क के वजह से चेहरा ढका रहता है. इसलिए पुरुषों को नियमित शेव करने और महिलाओं को लिपस्टिक लगाने की जरूरत आजकल कम ही पड़ती है.’’