किसानों की लौटेगी शान मौसम का अनुमान वर्षा होगी घमासान

    पड़ोसी ने हमसे कहा, ‘‘निशानेबाज, मौसम अनुमान विभाग ने भविष्यवाणी की है कि इस वर्ष बहुत अच्छी वर्षा होगी. इतना ही नहीं, लगातार 3 वर्षों तक मानसून अनुकूल रहेगा और  पर्जन्य वृष्टि होती रहेगी. पानी की कोई कमी नहीं होने पाएगी.’’ हमने कहा, ‘‘मानसून का मिजाज कौन जानता है. कभी-कभी वह दिशा बदल देता है. आवारा बादलों का कोई ठिकाना नहीं है. कहावत है कि गरजने वाले बादल बरसते नहीं हैं. लोग यह नहीं जानते कि कल क्या होगा. ऐसे में 3 साल के मानसून की भविष्यवाणी कैसे की जा सकती है?’’ 

    पड़ोसी ने कहा, ‘‘निशानेबाज, अविश्वासी मत बनिए. मौसम विभाग के पास अत्याधुनिक मशीनें हैं, सैटेलाइट से मिलने वाले चित्रों व ग्राफ का अध्ययन, निरीक्षण और विश्लेषण कर वहां के वैज्ञानिक मौसम का अनुमान लगा लेते हैं. सरकारी मौसम विभाग के अलावा निजी संस्था स्काईमेट भी मौसम की सही जानकारी देती है. आप तो यह जानकर खुश हो जाइए कि 3 वर्षों तक मानसून की अनुकूलता बनी रहेगी. इससे फसल अच्छी होगी. आसमान के काले मेघ जब बरसेंगे तो धरती को हरी चूनर पहना देंगे. 

    सभी ओर हरियाली और खुशहाली छा जाएगी. किसानों को यह गुहार करने की जरूरत ही नहीं पड़ेगी कि बरसो राम धड़ाके से, बुढ़िया मर गई फाके से! जब वर्षा अच्छी हो तो बम्पर फसल देखकर किसान झूमने और गाने लगेंगे- मेरे देश की धरती सोना उगले, उगले हीरे-मोती! दलहन-तिलहन की अच्छी उपज से महंगाई दूर होने में मदद मिलेगी. अपने देश की अर्थव्यवस्था को अच्छे मानसून से बल मिलेगा. इकोनॉमी की सुस्ती दूर होगी, जनजीवन सुखी होगा.’’ हमने कहा, ‘‘ऐसी खबरों पर आंख मूंद कर विश्वास मत कीजिए. जब मानसून आएगा, तब देखा जाएगा.’’