पास में धन और संसाधन फिल्मी सितारे करते विदेश गमन

    पड़ोसी ने हमसे कहा, ‘‘निशानेबाज, (Nishanebaaz) कोरोना संकट (Coronavirus) के इस दौर में अभिनेता शाहरुख खान की पत्नी (Shahrukh Khan) गौरी खान और बेटे आर्यन मुंबई से फ्लाइट पकड़कर न्यूयार्क चले गए. इस पर एक सोशल मीडिया यूजर ने नाराजगी से लिखा- ये सेलिब्रिटी बस नाम के इंडियन हैं. जब देश पर कोई मुश्किल आती है तो देश से भाग जाते हैं. एक अन्य यूजर ने लिखा- हां, भारत में परिस्थिति खराब हो जाए तो सब भाग जाओ विदेश. पैसा यहां कमाओ लेकिन जब यहां के लोगों को जरूरत हो तो निकल जाओ. कई लोग सवाल कर रहे हैं कि क्या लॉकडाउन सिर्फ आम लोगों के लिए है? ये लोग तो सारी दुनिया घूम रहे हैं, कोई मालदीव जा रहा है तो कोई न्यूयार्क.

    एक अन्य ने लिख दिया- निकालो इनको इंडिया से!’’ हमने कहा, ‘‘जनता को फिल्मी दुनिया के लोगों की सराहना और आलोचना दोनों करने का पूरा हक है लेकिन एक बात गौर करने लायक है कि अमेरिका से भारत के लिए फ्लाइट बंद हो चुकी है और शाहरुख खान की अमेरिका में पढ़ने वाली बेटी सुहाना खान वहीं फंसी हुई है. यदि उससे मिलने उसकी मां और भाई न्यूयार्क गए तो क्या गलत किया? वैसे अमेरिका में अभी भी कोरोना संकट जारी है. यदि आप फिल्मी सितारों की देश के प्रति निष्ठा पर सवाल उठाते हैं तो आपको पता होना चाहिए कि अभिनेता अक्षय कुमार जिन्होंने फिल्म ‘बेबी’ ‘हालिडे’ और ‘केसरी’ में देशभक्ति दिखाई थी तथा भारत के अंतिम हिंदू शासक पृथ्वीराज चौहान की भूमिका निभाने जा रहे हैं, वे भी कनाडा के नागरिक हैं. एक बार तो आमिर खान ने भी असहिष्णुता के मुद्दे पर देश छोड़कर जाने की बात कह डाली थी.’’ पड़ोसी ने कहा, ‘‘निशानेबाज, हमें तो सबसे अच्छा अभिनेता सोनू सूद का रवैया लगता है.

    गत वर्ष लॉकडाउन के समय उन्होंने कितने ही श्रमिकों को अपने पैसे से उनके गांव भेजा था. वे अभी भी लोगों की मदद करने में लगे हैं. सोनू सूद ने एयरलाइन्स कर्मचारी कोरोना पीड़ित नागपुर की भारती किसपोट्टा को एयर एम्बुलेंस से हैदराबाद के अपोलो अस्पताल पहुंचाने में सहायता की.सोनू से बाकी फिल्मी सितारे सीख सकते हैं कि इंसानियत क्या होती है! अपने लिए जिए तो क्या जिए, तू जी ऐ दिल जमाने के लिए.’’