हेमा-कुलस्ते का फार्मूला निराला, सुंघाओ हवन का धुआं पिलाओ शराब का प्याला

    पड़ोसी ने हमसे कहा, ‘‘निशानेबाज, बीजेपी के कुछ नेता निहायत बचकानी बातें करते हैं जिनका कोई सिर-पैर नहीं होता. क्या वे जनता को अनपढ़ या अपरिपक्व समझते हैं जिसे वे अपनी उल्टी-सीधी बयानबाजी से बहकाना चाहते हैं? ये लोग कुछ तो कॉमन सेन्स की बातें किया करें!’’ हमने कहा, ‘‘इसे अपना सौभाग्य मानिए कि ये नेता कोरोना महामारी से निपटने के लिए तरह-तरह के टोटके बता रहे हैं और वह भी बिल्कुल मुफ्त में! उनके दिमाग की दाद दीजिए कि कैसे-कैसे फंडे खोजकर लाते हैं. इन नेताओं की सोच दुनिया से बिल्कुल ही अलग है. क्या बीजेपी इन्हें इसी तरह की बकवास करने और जनता को बहकाने की ट्रेनिंग देती है या फिर ये नेता खुद ही दूर की कौड़ी लाते हैं?’’

    पड़ोसी ने कहा, ‘‘निशानेबाज, एक जमाने में ड्रीम गर्ल कहलाने वाली अभिनेत्री व मथुरा से बीजेपी सांसद हेमा मालिनी ने दावा किया है कि घर में रोज हवन करने से लोग कोरोना वायरस और अन्य बीमारियों से बच सकते हैं. हेमा का कहना है कि प्राचीन काल से ही भारत में हवन करने की प्रथा लाभदायक मानी गई है जिससे नकारात्मक शक्तियां नष्ट होती हैं. जब तक इस महामारी का अंत न हो जाए, तब तक हर दिन हवन करें. एक सोशल मीडिया यूजर ने सवाल किया कि क्या लोगों ने इसके लिए हेमा मालिनी को सांसद बनाया था?’’

    हमने कहा, ‘‘हेमा से भी जोरदार बयान केंद्र की मोदी सरकार के इस्पात राज्य मंत्री फग्गनसिंह कुलस्ते का है. उन्होंने कहा कि शराब लोगों के लिए बड़ा ‘टॉनिक’ है और कोरोना के समय यह बहुत ही ज्यादा जरूरी है.’’ पड़ोसी ने कहा, ‘‘निशानेबाज, ऐसी ऊटपटांग सलाह देनेवालों को प्रधानमंत्री मोदी या बीजेपी मुंह बंद रखने के लिए क्यों नहीं कहते? यदि हवन करने और शराब पीने से कोरोना खत्म हो जाता तो तमाम वैक्सीन तैयार करने की जरूरत ही क्या थी? इन दकियानूस लोगों का वश चले तो कोरोना के मरीज को ऑक्सीजन देने की बजाय हवन का धुआं सुंघाएं और दवा की बजाय दारू पिला दें. भगवान बचाए ऐसे नेताओं से, जिनकी अक्ल का दिवाला निकल गया है!’’