कोई नहीं जानता कि पवार के पेट में कितने हैं राज

    पड़ोसी ने हमसे कहा, ‘‘निशानेबाज, (Nishanebaaz) यह समझ पाना कठिन है कि किस नेता के पेट में क्या है? वे इतने सजग रहते हैं कि पेट का पानी हिलने नहीं देते. कितने ही गहरे राज उनके पेट में छुपे रहते हैं.’’ हमने कहा, ‘‘सोनोग्राफी और सीटी स्कैन के जरिए डाक्टर आसानी से पता लगा लेते हैं कि किसके पेट में क्या है. इसके लिए आपको फिक्र करने की आवश्यकता नहीं है. जब एनसीपी अध्यक्ष और महाराष्ट्र के दिग्गज नेता शरद पवार (Sharad Pawar) के पेट में दर्द हुआ तो डाक्टरों ने उनके गालब्लैडर का आपरेशन कर पथरी निकाल दी.’’

    पड़ोसी ने कहा, ‘‘निशानेबाज, जिस समय पवार और अमित शाह की अहमदाबाद में उद्योगपति गौतम अदानी के बंगले पर गुप्त बैठक हुई थी, तभी से खलबली मच गई थी कि किस नेता के पेट में क्या है! वैसे पवार और बीजेपी की मित्रता पुरानी है. एक बार तो प्रधानमंत्री मोदी ने भी पवार की तारीफ की थी. 2014 में महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव का नतीजा आने के पहले ही पवार ने सरकार बनाने के लिए बीजेपी को समर्थन देने की घोषणा कर दी थी. बाद में काफी फर्क आ गया और 2019 में पवार ने शिवसेना के नेतृत्व में सरकार बनवा दी. पवार के इरादों को कोई भांप नहीं सकता.’’ हमने कहा, ‘‘एक खास बात पर गौर कीजिए कि जब पवार अस्पताल में भर्ती हुए तो सबसे पहले बीजेपी नेताओं ने उनके स्वास्थ्य के बारे में कुशलक्षेम पूछा.

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, देवेंद्र फडणवीस, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) व मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने खोजखबर ली लेकिन सोनिया गांधी और राहुल ने कोई ध्यान नहीं दिया. वे हमेशा ही पवार को पराया मानते रहे हैं.’’ पड़ोसी ने कहा, ‘‘निशानेबाज, हाल ही में शिवसेना नेता संजय राऊत ने सुझाव दिया था कि यूपीए का चेयरपर्सन सोनिया गांधी की बजाय शरद पवार को बनाया जाना चाहिए. इस बात से कांग्रेस नेता नाराज हो गए. उन्होंने कहा कि संजय राऊत को यूपीए के बारे में बोलने का कोई अधिकार नहीं है.’’ हमने कहा, ‘‘जो भी हो, पवार का पेट दुखने से महाविकास आघाड़ी सरकार पर आया संकट फिलहाल टल गया.’’