कब जागेगी कांग्रेस हाईकमान हताश कांग्रेसी नेता ढूंढ रहे विकल्प

    पड़ोसी ने हमसे कहा, ‘‘निशानेबाज, (Nishanebaaz)  कांग्रेस (Congress) के संकटमोचक और पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) के राइटहैंड मैन रह चुके दिवंगत नेता अहमद पटेल के बेटे फैसल (Faisal Patel) ने अचानक ‘आप’  Aam Aadmi Party (AAP) नेता व दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल  (Arvind Kejriwal) से मुलाकात की. निश्चित रूप से सोनिया और राहुल को फैसल का यह कदम अखर गया होगा कि अपने खेमे का कोई व्यक्ति दूसरी पार्टी के नेता से क्यों मिल रहा है?’’ हमने कहा, ‘‘आप नेता केजरीवाल ने फैसल से पूछा होगा- आप यहां आए किसलिए? क्या कांग्रेस में आपकी पूछ-परख नहीं हो रही है? किस बात से नाराज हो, किस बात का है गम?’’ पड़ोसी ने कहा, ‘‘निशानेबाज, ऐसा माना जा रहा है कि फैसल राजनीति में कदम रखने का फैसला कर सकते हैं.

    वैसे भी कांग्रेस में जी-23 गुट के नेता अपनी उपेक्षा से काफी हताश हो चुके हैं. वे विकल्प ढूंढ रहे हैं. उनकी हालत यह है कि कोई सागर दिल को बहलाता नहीं, बेखुदी में भी करार आता नहीं!’’ हमने कहा, ‘‘विकल्प खोजने के लिए संकल्प होना चाहिए. एक जगह ठिठक कर रहने से मंजिल नहीं मिलती. जी-23 के नेताओं ने पत्र लिखकर अपनी भावना का इजहार किया. पत्र लेखन को लेकर गीत है- लिखे जो खत तुझे वो तेरी याद में हजारों रंग के फसाने बन गए. जब कोई पार्टी सत्ता से दूर हो जाती है तो उसकी हालत पिचके आम के समान हो जाती है. उससे छिटकने वालों की कमी नहीं रहती.’’ पड़ोसी ने कहा, ‘‘निशानेबाज, असंतोष की वजह से दिल का गुबार कभी न कभी फूट पड़ता है.

    कितने ही पुराने कांग्रेसमैन समय के साथ जेंटलमैन बन गए. कपिल सिब्बल, गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा आदि नेताओं ने कांग्रेस के संगठनात्मक चुनाव कराने और पार्टी का नया अध्यक्ष चुनने की मांग की थी, तभी से वे हाशिये पर हैं. एक जगह घास सूख जाने पर लोग नया चारागाह खोजते हैं. अहमद पटेल के बेटे फैसल ने अपने पोस्ट में लिखा कि हमारे दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल से मिलने पर गौरवान्वित महसूस कर रहा हूं और उनके वर्क एथिक्स व नेतृत्व कौशल का अग्रणी प्रशंसक हूं.’’