For the prohibition of increase in petrol and diesel price, Congress committee agitated

अहमदाबाद. तेल के बढ़ते दामों को लेकर अहमदाबाद में केन्द्र सरकार के खिलाफ रैली निकालने की कोशिश कर रहे गुजरात कांग्रेस अध्यक्ष और पार्टी के करीब 50 कार्यकर्ताओं को पुलिस ने सोमवार को हिरासत में ले लिया। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि उन्हें एकत्रित होने की अनुमति नहीं दी गई थी। विपक्षी दल ने पहले गुजरात के राजकोट, वडोदरा और सूरत जिले में ऐसी ही रैली निकाल कर तेल के बढ़ते दाम वापस लेने की मांग की थी। अहमदाबाद में चावड़ा और विधायक गयासुद्दीन शेख सहित कांग्रेस के अन्य 50 कार्यकर्ता सरदार बाग इलाके में पेट्रोल और डीजल के बढ़े दामों के खिलाफ रैली निकालने की कोशिश कर रहे थे, तभी पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया। पुलिस ने बताया कि प्रदर्शनकारियों को एकत्रित होने या रैली निकालने की अनुमति नहीं दी गई थी।

पुलिस उपायुक्त, जोन टू, धर्मेंद्र शर्मा ने कहा, ‘‘कांग्रेस के कार्यकर्ता भीड़भाड़ वाले इलाके में बिना अनुमति लिए एकत्रित हुए। हमने चावड़ा, शेख सहित करीब 50 कार्यकर्ताओं को बिना अनुमति के रैली निकालने की कोशिश करने के आरोप में हिरासत में लिया है। ” हिरासत में लेने से पहले चावड़ा ने सरकार पर तेल के दामों को लेकर निशाना साधा था। उन्होंने कहा था, ‘‘यह सरकार लोगों की परेशानी समझने को तैयार नहीं हैं, जिन्होंने पहले कोरोना वायरस की मार झेली और अब तेल के बढ़ते दामों की..। हम जनता से जुड़े मुद्दे उठाते रहेंगे, जिसे इस सरकार ने लावारिस छोड़ दिया है। हम चाहते हैं कि केन्द्र तेल के बढ़े दाम वापस ले।”

अधिकारियों ने बताया कि राज्य के अन्य हिस्सों में भी इस मामले पर प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया गया है। वहीं पेट्रोल, डीजल के दाम में वृद्धि का सिलसिला लगातार 22वें दिन भी जारी रहा। डीजल के दाम सोमवार को 13 पैसे बढ़कर 80.53 रुपये प्रति लीटर हो गए। पिछले तीन सप्ताह में डीजल के दाम में कुल मिलाकर 11.14 रुपये प्रति लीटर की वृद्धि हो चुकी है। पेट्रोल के दाम में पांच पैसे प्रति लीटर की वृद्धि की गई। गत सात जून के बाद से जहां डीजल के दाम लगातार 22वें दिन बढ़ाये गये हैं वहीं पेट्रोल के दाम 21 दिनों से बढ़ रहे हैं।(एजेंसी)