Bihar Election, NDA

पटना. बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election 2020) की तारीखों का ऐलान कर हो चुका है, जिसके बाद राजनीतिक दलों (Political Parties) ने अपनी तैयारियाँ शुरू कर दी है। रविवार को नीतीश कुमार (Nitish Kumar) की अगुवाई वाली एनडीए (NDA) में सीटों के बंटवारे का फार्मूला तय हो गया है। जिसके अनुसार 243 सीटों वाले विधानसभा में 104 सीटों पर जनता दल यूनाइटेड (JD(U)) लड़ेगी, जबकि भारतीय जनता पार्टी (BJP) 100 सीटों पर चुनाव लड़ेगी।

खास बात यह है कि एनडीए में उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) ने वापसी कर ली है। इससे पहले भी वह महागठबंधन का हिस्सा थे। इस बार उनकी पार्टी रालोसपा 5 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेंगी।

वहीं चिराग पासवान की लोजपा 30 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। इसके अलावा जीतनराम मांझी की पार्टी हम 4 सीटों पर चुनाव लड़ेगी।  बताया जा रहा कि एनडीए का यह सीट शेयरिंग का फार्मूला लगभग तय है। इसमें एक-दो सीटों में फेरबदल होने की संभावना सूत्रों ने जताई है।

वाल्मीकि नगर लोकसभा सीट पर लड़ लड़ेंगे उपेंद्र कुशवाहा?

वाल्मीकि नगर लोकसभा सीट पर उप-चुनाव चुनाव होनेवाला है। इस सीट पर उपेंद्र कुशवाहा चुनाव लड़ सकते हैं। गौरतलब है कि जदयू सांसद वैद्यनाथ प्रसाद महतो के बाद यह सीट खाली हुई है। कुशवाहा की पार्टी रालोसपा पहले भी एनडीए का हिस्सा थी, लेकिन 2019 लोकसभा चुनाव से पहले महागठबंधन में शामिल हो गयी थी। कल रात उपेंद्र कुशवाहा और नीतीश कुमार में लंबे समय तक बातचीत हुई। जिसके बाद रालोसपा ने एनडीए में शामिल हो गई।

सहयोगी दलों को जोड़े रखने के लिए भाजपा की नई रणनीति!

वहीं दूसरी कृषि बिल के विरोध में शिरोमणि अकाली दल ने शनिवार को एनडीए को अलविदा कहकर भाजपा को झटका दिया है। अब भाजपा ने अपने सहयोगी दलों को जोड़े रखने के लिए नई रणनीति बनाई है। भाजपा ने इस चुनाव में चिराग पासवान को मानाने के लिए अपने हिस्से की कुछ सीटें उन्हें दी है।

बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे जदयू में शामिल

वहीं आज बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे जदयू में में शामिल हो गए है। मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने अपने आवास में उन्हें पार्टी की सदस्यता दिलाई है। बता दें की पांडे द्वारा ऐच्छिक सेवानिवृति लेने के बाद से ही उनके जेडीयू में शामिल होने की चर्चा शुरू हो गई थी। इसी के साथ विधानसभा चुनाव में उन्हें मैदान में उतारा जा सकता है।

सूत्रों की मानें तो जदयू शाहाबाद में अपनी चुनावी पैठ और लोगों में अपने विश्वास को बढ़ाने को लेकर पांडेय को बक्सर शहरी सीट या फिर कोई आसपास की सीट से विधानसभा का चुनाव लडवा सकती है। यह भी कहा जाता है कि शाहाबाद में सासाराम, बक्सर, आरा लोकसभा सीटें वैसे तो भाजपा के खाते में हैं और जदयू भी अब इसी इलाके में अपने आप को भी मजबूत करना चाहती है।  

कोरोना काल में चुनाव

गौरतलब है कि इस कोरोना काल में यह पहला चुनाव है। इस बार बिहार में तीन चरणों में तीन चरणों में मतदान होंगे और 10 नवंबर को नतीजे घोषित किए जाएंगे। 28 अक्टूबर को पहले चरण के लिए मतदान होगा, जबकि दूसरे चरण के लिए 3 नवंबर और सात नवंबर को तीसरे चरण के लिए मतदान होगा।