bihar-naxal

पटना. एक तरफ जहाँ बिहार में विधान सभा चुनाव (Bihar Election) को लेकर हवा गरम है। वहीं अब बिहार का यह चुनाव नक्सली हमलों (Naxal Attack) के साए में भी आ गया है। मीडिया चैनल ‘आजतक’ के हवाले से एक खुफिया रिपोर्ट के अनुसार अब नक्सली, बिहार चुनाव के दौरान बड़े नेताओं को निशाना बनाने की योजना में मशगुल हैं। अब इसी के चलते तमाम ख़ुफ़िया एजेंसियों ने स्थानीय पुलिस और सुरक्षा एजेंसियों को चौकस भी कर दिया है।

दरअसल ‘आजतक’ ने अपने इस रिपोर्ट में दावा किया है कि बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान नक्सली IED या बारूदी सुरंगों के जरिए राजनीतिक दलों के नेताओं, सुरक्षा बलों, पैरा मिलिट्री फोर्स पर हमला करने की साज़िश रच रहे हैं। इसी के साथ इस रिपोर्ट में दावा किया है कि अनेक राजनीतिक दलों के बड़े नेता चुनाव प्रचार के दौरान नक्सली हमले की रडार पर हैं।   

इस रिपोर्ट से यह भी पता चलता है कि बिहार के चुनावी सरगर्मी से झारखंड से सटे बिहार के कई इलाकों में एकाएक नक्सली गतिविधियां बढ़ सी गई है। वहीं अब सुरक्षा एजेंसीज भी जमुई, गया और औरंगाबाद जिलों में नक्सल गतिविधियों पर पैनी नजर रखे हुए हैं।  

 बता दें कि बीते सोमवार को ही  बिहार चुनाव का बहिष्कार करने के लिए प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा माओवादी के सदस्यों ने औरंगाबाद के जंगली इलाकों के कई गांव में पोस्टरबाजी की थी। इन पोस्टर्स के जरिये नक्सालियों ने कहा था कि, पुलिस राज्य को ध्वस्त किया जाए और अगर  भ्रष्टाचार मुक्त व्यवस्था चाहिए तो क्रांतिकारी जन कमेटी जनताना सरकार का निर्माण करना शुरू करें। इन पोस्टर्स पर यह भी लिखा था कि, “कोरोना महामारी से मुक्ति पाना है, तो क्रांतिकारी जन कमेटी जनताना सरकार बनानी है’ और अगर इन भष्ट राज व्यवस्थाओं से सच में मुक्ति चाहिए तो आगामी मतदान से बहिष्कार करें।”