बिहार में कोरोना का कहर, छपरा के रिमांड होम में 38 बच्चे संक्रमित, अस्पताल में भर्ती

    छपरा: बिहार (Bihar) में कोरोना (Corona Virus) का संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है। इसी बीच छपरा (Chapra) से बड़ी खबर सामने आई है। जहां रिमांड होम में रह रहे 38 बच्चे कोरोना से संक्रमित हो गए हैं। बच्चों की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद सभी को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

    ज्ञात हो कि, कोरोना की दूसरी लहर ने बिहार की भी चिंता बढ़ाने लगी है। दैनिक मामलो में लगातार वृद्धि हो रही है। जिसको देखते हुए मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने पूरे राज्य में नाइट कर्फ्यू लगा दिया है। ईसिस के साथ सभी स्कूल और कॉलेज को 15 मई तक बंद कर दिया है। 

    पिछले वर्ष के आकड़ो तक पहुंचे

    रविवार को सभी जिलाधिकारियों के साथ हुई बैठक के बाद मुख्यमंत्री ने कहा, “कोरोना वायरस संक्रमण प्रतिदिन बढता जा रहा है और रविवार को कुछ देर पहले प्राप्त आंकडे के मुताबिक आज एक दिन में 8690 नये मामले सामने आये। उनके अनुसार पिछले वर्ष सर्वाधिक जितने मामले सामने आए थे उस आंकडे पर कल ही हम लोग पहुंच गए थे और आगे बढते चले जा रहे हैं।”

    शादी में केवल 100 लोग

    मुख्यमंत्री नीतीश ने कहा, “सार्वजनिक स्थलों पर किसी प्रकार के आयोजन सरकारी अथवा निजी पर रोक रहेगी लेकिन दफन, दाह संस्कार, पूजा, श्राद्ध, विवाह पर यह लागू नहीं होगा। दफन अथवा दाह संस्कार में अब 50 के बजाए 25 लोगों, शादी-विवाह में 200 के बजाए 100 व्यक्तियों को अनुमति देने का निर्णय लिया गया है।”

    प्रवासी मजदुर होंगे क्वारंटाइन 

    देश में कोरोना के मामले बढ़ने के बाद कई राज्यों ने अपने यहां लॉकडाउन लगा दिया है। जिसमें महाराष्ट्र, दिल्ली शामिल है। इन दोनों राज्यों में बड़ी संख्या में बिहार के प्रवासी रहते हैं। जो लॉकडाउन के ऐलान के बाद अपने घरों की ओर फिर लौटने लगे हैं। जिसके बाद बिहार में संक्रमण फैलने का डर सताने लगा है। इसी को देखते हुए बिहार सरकार ने सभी प्रवासी लोगों को 14 दिन तक क्वारंटाइन में रखने का आदेश राज्य सरकार ने दिया है।