KHAIRA

    नयी दिल्ली. प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) ने मादक पदार्थों की तस्करी और कथित तौर पर एक फर्जी पासपोर्ट (Fake Passport) तैयार करने, और मादक द्रव्यों की तस्करी से जुड़े धनशोधन के मामले में पंजाब के विधायक सुखपाल सिंह खैरा (Sukhpal Singh Khaira) के परिसरों पर छापेमारी की।

    अधिकारियों ने इस बारे में बताया। उन्होंने बताया कि चंडीगढ़, हरियाणा के साथ पंजाब और दिल्ली में कुछ स्थानों पर तलाशी ली गयी। खैरा पंजाब एकता पार्टी के विधायक हैं। वह आम आदमी पार्टी (AAP) के टिकट पर राज्य विधानसभा (Vidhansabha) के लिए निर्वाचित हुए थे।

    पहली बार नहीं लग रहे आरोप:

    गौरतलब है कि ऐसा  पहली बार नहीं है जब खैरा किसी विवादों में हैं।  इससे पहले साल 2015 में भी उनके खिलाफ ड्रग्स तस्करी के मामले में भी केस दर्ज किया गया था।  वहीं फाजिल्का कोर्ट ने कुछ ड्रग्स तस्करों की गिरफ्तारी के बाद खैरा को समन किया था।  पुलिस ने गिरफ्तार किए गए तस्करों से 2 किलो हेरोइन, 24 गोल्ड बिस्किट, दो पाकिस्तान सिम कार्ड और एक देशी पिस्टल बरामद की थी।  

    बता दें कि खैरा पर यह आरोप था कि वह अपने पर्सनल सेक्रेटरी के फोन से तस्करों से बात किया करते थे।  इस मामले में खैरा के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी होने के बाद उन्होंने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था।  वहीं हाईकोर्ट ने भी उनकी मांग ठुकरा दी थी जिसके बाद वह सुप्रीम कोर्ट गए। जहां सुप्रीम कोर्ट ने उनके खिलाफ जारी गैर जमानती वारंट पर रोक लगा दी थी।  इस मामले में 9 ड्रग्स तस्कर गिरफ्तार किए गए थे।  वहीं खैरा को समन किए जाने के बाद PEP के विधायक को अतिरिक्त आरोपी बनाया गया

    इधर अधिकारियों ने बताया कि धन शोधन रोकथाम कानून (पीएमएलए) के प्रावधानों के तहत यह कार्रवाई की गयी और इसका मकसद जांच को आगे बढ़ाने के लिए और साक्ष्य जमा करना है। उन्होंने बताया कि मादक पदार्थ की कथित तस्करी और फर्जी पासपोर्ट मामले के संबंध में पीएमएलए की जांच की जा रही है। इस मामले में कुछ आरोपी जेल में हैं।