election-commission

पटना.  निर्वाचन आयोग (Election Commission) ने वरिष्ठ आईएएस अधिकारी बी कार्तिकेय धनजी को बिहार (Bihar) के उत्पाद आयुक्त (Excise Commissioner) के पद से हटा दिया है। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी एच आर श्रीनिवास ने बुधवार को बताया कि निर्वाचन आयोग ने समीक्षा के दौरान 2008 के आईएएस अधिकारी कार्तिकेय धनजी को निरोधात्मक कार्रवाई की प्रभावशाली कार्ययोजना प्रस्तुत नहीं करने और अपर्याप्त तैयारियों को लेकर उत्पाद आयुक्त के पद से हटा दिया।

मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोड़ा की अगुवाई में चुनाव आयोग की सात सदस्यीय टीम कोविड-19 संक्रमण के बीच आसन्न विधानसभा चुनाव की तैयारियों की समीक्षा के लिए मंगलवार शाम पटना पहुंची थी। आयोग की टीम ने बुधवार को विभिन्न राजनीतिक दलों के शिष्टमंडल से मुलाकात करने के साथ प्रशासन एवं पुलिस पदाधिकारियों के साथ चुनाव की तैयारियों को लेकर समीक्षा बैठक की। चुनाव आयुक्त सुशील चंद्र और राजीव कुमार इस टीम का हिस्सा हैं। आयोग की टीम अपनी बिहार की अपनी तीन-दिवसीय यात्रा पूरा करने से पहले बृहस्पतिवार को पटना में संवाददाता सम्मेलन करेगी।

आयोग की टीम से मुलाकात के दौरान जद (यू), भाजपा, राजद, कांग्रेस, भाकपा और लोजपा के शिष्टमंडलों ने अपने ज्ञापन सौंपे । मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जद (यू) के शिष्टमंडल में लोकसभा में दल के नेता राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह, राज्यसभा में पार्टी नेता आर सी पी सिंह और दो राज्य मंत्री अशोक चौधरी और संजय कुमार झा शामिल थे। झा ने बताया कि पार्टी नेताओं ने कहा कि चुनाव आयोग के दिशानिर्देश के अनुसार घर घर जाकर चुनाव प्रचार के दौरान पांच से अधिक व्यक्ति नहीं उपस्थित रहेंगे लेकिन अगर कुछ स्थानीय लोग झुंड में शामिल होते हैं तो उन्हें दंडित नहीं किया जाना चाहिए।

झा ने कहा कि उन्होंने भी यह भी जानना चाहा कि सार्वजनिक सभा स्थलों पर दर्शकों के संबंध में कोई संख्या चुनाव आयोग द्वारा निर्धारित की गयी है। भाजपा की टीम ने चुनाव आयोग से आग्रह किया कि केंद्रीय बल चुनावों के संचालन से एक दिन पहले लोगों में आत्मविश्वास जगाने के लिए फ्लैग मार्च करे । भाजपा के शिष्टमंडल का नेतृत्व पार्टी के राज्य महासचिव जनक राम कर रहे थे । बिहार की मुख्य विपक्षी पार्टी राजद के शिष्टमंडल का नेतृत्व पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता और सांसद मनोज कुमार झा कर रहे थे । राजद शिष्टमंडल ने सुझाव दिया कि चूंकि मतदान कोरोना वायरस संक्रमण के बीच कराया जाएगा, ऐसे में प्रत्येक मतदाता का बीमा होना चाहिए ।

लालू प्रसाद की पार्टी ने मतदान केंद्रों पर एम्बुलेंस और मेडिकेयर भी व्यवस्था किए जाने की मांग की । कांग्रेस शिष्टमंडल ने अनुरोध किया कि राजनीतिक दलों द्वारा आयोजित की जाने वाली चुनावी रैली, आम सभा आदि के लिए निर्धारित मैदान का आवंटन निर्वाचन पदाधिकारी द्वारा प्रत्याशियों के आवेदन के अनुसार बिना पक्षपात के किया जाए ।