Humanity is ashamed in Bokaro, corpses are being traded for liquor

    ओमप्रकाश मिश्र 

    रांची. मृत्यु से बड़ा मातम और दुःख दूसरा कुछ और नहीं हो सकता। मरने की खबर पर दुश्मन भी शोक मनाता है पर अपने स्वार्थ और नशे की प्यास बुझाने के लिए  आदमी लाशों का सौदा भी कर सकता है, यह बात मानवता को झकझोर देने जैसी है। नशे के लिए आदमी कितना गिर सकता है इसकी सच्चाई उजागर हुई बोकारो (Bokaro) जिले के एक श्मशान घाट में। कोरोना महामारी है की रुकने का नाम नहीं ले रही है। आए दिन 100 से 150 लोगों की मौत (Death) हो रही है। एक तो मौत का दुःख ऊपर से उनके अंतिम संस्कार (Funeral) में होने वाले व्यावधान, श्मशान घाटों में जगह की, लकड़ी की कमी और ये सब से उबर गए तो मानवता को शर्मसार के देने वाली घटनाएं। मानवता को शर्मसार करती ऐसी ही एक घटना है बोकारो जिले के एक श्मशान घाट की, जहां शराब के पैसे जुटाने के लिए लाशों के अंतिम संस्कार के लिए 15 से 20 हजार रूपए तक वसूले जा रहे हैं।

    कोरोना के बढ़ते प्रकोप के बीच नशेड़ी आए दिन होने वाली मौत को अवसर के रूप में भुना रहे है। रांची की तरह बोकारो जिले में भी कोरोना अपनी पांव पसार चूका है। आए दिन बड़ी तादाद में यहां भी मौतें हो रही है। बोकारो स्थित चास के श्मशानो में नशेड़ी, मृतकों के अंतिम संस्कार के लिए मृतकों के परिजनों से 15 से 20 हजार रुपए तक वसूल रहे है। इनका काम यही रह गया है कि मृतकों के परिजनों से ज्यादा से ज्यादा रुपए वसूलना और जमकर शराब पीना। शराब पीने के लिए मृतकों के परिजनों से लाशों पर सौदा करने वाले 10 -12 लोग है, जिन्होंने मानवता को शर्मसार कर दिया है। परिजनों की शिकायत के बाद स्थानीय चास पुलिस हरकत में आई और शनिवार को श्मशान घाट पहुचकर लाठियों से पीटकर उन नशेड़ियों को वहां से खदेड़ा।

    परिजनों से ले रहे 15 से 20 हजार रूपए 

    चास श्मशान घाट की देखरेख और मृतकों के परिजनों को अंतिम संस्कार करने में सुविधा पहुंचाने के लिए बनाई गई समिति के एक सदस्य अनूप कुमार पाण्डेय ने बताया कि मृतकों के शवों को जलाने के लिए ज्यादा से ज्यादा 4 से 5 हजार रूपए तक खर्च होते है। पर कोरोना मरीज के शवों को जलाने के लिए नशेड़ियों की टीम मृतकों के परिजनों से 15 से 20 हजार रूपये तक ले रही है। पाण्डेय ने बताया कि इन लोगों का काम यही रह गया है कि मृतकों की लाशें जलाने के लिए ज्यादा से ज्यादा रूपए ऐंठना और उन्ही पैसो से शराब पीना।  चास के श्मशान घाट में हो रही इस तरह की अमानवीय घटना के खिलाफ चास पुलिस थाने में शिकायत करने के बाद शनिवार को पुलिस चास श्मशान पहुंचकर नशेड़ियों को लाठी से पीटकर खदेड़ी और उन पर कार्रवाई करने का आश्वाश्न दिया ।

    कम नहीं हो रहा कोरोना का संक्रमण

    कोरोना संक्रमण थमने का नाम नहीं ले रहा है। कल की रिपोर्ट के अनुसार बोकारो में एक दिन में 325 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए। जबकि पुरे झारखंड में 6323 नए संक्रमित पाए गए है। रांची में 1377 नए संक्रमित पाए गए है। जिनमे 159 मरीजों की मौत हो गयी। पूरे झारखंड में अब तक कुल 239734 पॉजिटिव मामले मिले है, जिनमे 58437 सक्रिय मामले है, 178468 मरीज स्वस्थ हुए है और कुल 2829 मरीजों की मृत्यु हुई है।