मुंगेर पुलिस की बर्बरता: चली गोली, एक व्यक्ति की मौत

– पंकज कुमार चौरसिया

पटना. बिहार के मुंगेर जिले में पहले चरण के चुनाव से पहले पुलिस के बर्बरता की एक बड़ी खबर सामने आयी है। मुंगेर में बड़ी दुर्गा मूर्ति विसर्जन को लेकर हंगामा हो गया। हंगामा पुलिस और आम जनता के बीच हुआ। हंगामे के दौरान चली इस गोली में अनुराग पोद्दार नाम के एक व्यक्ति की मौत हो गई है। इस दौरान पुलिस और आम जनता के बीच मारपीट और जमकर पत्थरबाजी भी हुई है। हंगामे के बाद अफरातफरी की स्थिति पैदा हो गई। जिससे लोग चौक पर ही मूर्तियां छोड़ कर भाग गए। उसके बाद प्रशासन के द्वारा प्रतिमा का विसर्जन कराया गया। एक व्यक्ति की मौत के बाद पूरे इलाके में तनाव है। भीड़ के हमले में कुछ पुलिसवाले भी घायल हो गए हैं। पथराव और गोलीबारी के बीच अफवाह भी फैलाई गई जिससे माहौल खराब हो गया।

प्रत्यक्षदर्शियों की मानें तो सभी प्रतिमा विसर्जन के लिए लाइन में लगी हुई थी और बड़ी दुर्गा देवी की प्रतिमा विसर्जन का इंतज़ार कर रही थी। इसी दौरान कुछ पुलिस पदाधिकारी पंडित दीन दयाल चौक के पास अपनी बारी का इंतजार कर रहे एक प्रतिमा विसर्जन समिति के लोगों पर दवाब डालने लगे। इससे प्रतिमा विसर्जन समिति के लोग और पुलिस के बीच नोक झोंक हो गई और मुंगेर की एसपी लिपि सिंह जो आरसीपी सिंह, जेडीयू सांसद की बेटी हैं, जिनके के आदेश पर पुलिस को लाठी चार्ज और बाद में गोली भी चलानी पड़ी।

बता दें कि, बिहार में कल पहले चरण का मतदान होना है। मुंगेर में भी कल ही वोट डाले जाएंगे। सूत्रों की मानें तो आम जनता चुनाव के बहिष्कार का विचार कर रही है।

फायरिंग में घायल लोगों के नाम चन्दन कुमार, आशु कुमार, सौरभ कुमार यादव, सुमित कुमार, संजीव कुमार, डब्लू कुमार और विशाल कुमार हैं। डीएम ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि शहर के लोग प्रशासन की मदद करें। शांति बनाए रखें।