Gujjar community demanding reservation, blocked railway tracks, trains affected

जयपुर. गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के आह्वान पर गुर्जरों का आंदोलन सोमवार को नौंवें दिन भी जारी रहा क्योंकि समिति के संयोजक कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला और सरकार के बीच हुई बातचीत का कोई सार्थक परिणाम नहीं निकल सका। बैंसला के आग्रह पर खेल और युवा मंत्री अशोक चांदना ने सोमवार को दो अलग अलग जगहों पर उनसे बातचीत की।

चांदना हिंडौन शहर में बैंसला के निवास पर बातचीत के लिये पहुंचे और करौली जिला कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक मृदुल कछावा की मौजूदगी में उनसे बातचीत की। उसके बाद मंत्री चांदना और बैंसला समाज के अन्य नेताओं के साथ दूसरे दौर की बातचीत के लिये सौरठ पुलिस थाने पहुंचे जहां ढाई घंटे तक चली बैठक भी विफल रही।

गुर्जर नेताओं द्वारा उनकी मांगें पूरी नहीं होन पर असंतुष्ट रहे। चांदना ने बैठक के बाद संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि बातचीत सकारात्मक रही। आंदोलन से पहले राज्य सरकार ने जयपुर आये 41 सदस्यों के प्रतिनिधिमंडल की सभी मांगे मान ली थी। वहीं दूसरी ओर गुर्जर नेता विजय बैंसला ने कहा कि सरकार हमारी मांगें पूरी करने में विफल रही है उसके बाद हमने आंदोलन को जारी रखने का निर्णय किया है।

संवाददाताओं से बातचीत में बैंसला ने कहा, “हम दीपावली रेलवे ट्रैक पर ही मानएंगे। हमारी मांगें नयी नहीं हैं। हम पिछले एक साल से अधिक समय से इन्हें पूरा करने की मांग कर रहे हैं।” आरक्षण सहित अन्य मांगों को लेकर आंदोलनकारियों के बयाना के पीलूपुरा के पास दिल्ली मुंबई रेल मार्ग पर पटरी में बैठे हैं।

गुर्जर अपनी छह मांगों को लेकर आंदोलन कर रहे हैं। इनकी मांगों में समझौते और चुनाव घोषणा पत्र के अनुसार बैकलॉग रिक्तियों को अधिसूचित करना, सभी प्रक्रियाधीन भर्तियों में पांच प्रतिशत आरक्षण व आरक्षण को संविधान की नौंवीं अनुसूची में शामिल करवाना शामिल है। (एजेंसी)