Sukhbir Singh Badal on farmers March

चंडीगढ़. शिरोमणि अकाली दल के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने किसानों का ‘दिल्ली चलो’ मार्च विफल करने का प्रयास करने के लिए बृहस्पतिवार को हरियाणा सरकार की आलोचना की और प्रयास को “पंजाब का 26…11” करार दिया। बठिंडा की सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने भी हरियाणा में किसानों को प्रवेश करने से रोकने के लिए हरियाणा सरकार की निंदा की और कहा कि यह “लोकतंत्र की हत्या” है।

बादल ने एक ट्वीट में कहा, “आज पंजाब का 26…11 है। हम लोकतांत्रिक प्रदर्शन के अधिकार की समाप्ति देख रहे हैं। अकाली दल हरियाणा सरकार और केंद्र की निंदा करता है जिसने किसानों के शांतिपूर्ण आंदोलन को दबाया।”

केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली की तरफ पंजाब के किसानों के मार्च को रोकने के लिए हरियाणा ने अपनी सीमाओं को पूरी तरह सील कर दिया है। शिअद प्रमुख ने पंजाब-हरियाणा सीमा के पास किसानों के खिलाफ पानी की बौछारों का इस्तेमाल करने के लिए हरियाणा की भाजपा नीत सरकार की आलोचना की।

उन्होंने कहा, “किसानों के खिलाफ पानी की बौछारों का इस्तेमाल करके अधिकारों के लिए पंजाब के किसानों के संघर्ष को नहीं दबाया जा सकता है। इससे हमारा संकल्प और मजबूत होगा।” हरसिमरत कौर बादल ने भी राज्य में किसानों को प्रवेश करने से रोकने के लिए हरियाणा सरकार पर प्रहार किया।

हरसिमरत कौर ने ट्वीट किया, “संविधान दिवस पर लोकतंत्र की हत्या की गई। किसानों की आवाज दबाई गई, अन्नदाताओं पर पानी की बौछारें छोड़ी गईं। मैं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी से अपील करती हूं कि वे हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर जी को निर्देश दें कि वह किसानों को शांतिपूर्वक जाने दें ताकि वे दिल्ली में केंद्र को अपने मुद्दों से अवगत करा सकें। मैं उनके साथ खड़ी हूं।”

हरियाणा पुलिस ने बृहस्पतिवार को पंजाब के किसानों के एक समूह पर पानी की बौछारें छोड़ीं और आंसू गैस का इस्तेमाल किया जिन्होंने ‘दिल्ली चलो’ मार्च के तहत हरियाणा में घुसने के लिए कथित तौर पर पुलिस अवरोधकों को पार करने का प्रयास किया। (एजेंसी)