मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बोले- 19 एमएलए के बिना भी बहुमत साबित कर देते

जयपुर: सरकार पर आए संकट समाप्त होने के बाद गुरुवार को मुख्यमंत्री आवास पर कांग्रेस विधायक दल की बैठक बुलाई गई है. इस दौरान पूर्व मुख्यमंत्री सचिन पायलट और उनके समर्थक विधायक भी मौजूद थे. विधायकों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने विधानसभा के अंदर विश्वास प्रस्ताव लाने का ऐलान करते हुए कहा, “पिछले दिनों जो बातें हुई, उन्हें भुला दें. हम इन 19 एमएलए के बिना भी बहुमत साबित कर देते, लेकिन वह खुशी नहीं होती. अपने, अपने होते हैं.”

पिछले 35 दिनों से गहलोत सरकार पर शुरू राजनीतिक संकट थम गया है. सचिन पायलट अपने सभी नाराज विधायक भी उनके साथ कांग्रेस में वापसी आ गए. जिसके बाद  गहलोत सरकार पर आया संकट टल गया है. मुख्यमंत्री ने आगे कहा, ” किसी भी एमएलए की शिकायत है उसे दूर करेंगे. अभी चाहें अभी मिल लें. बाद में चाहे बाद में मिल लें.” 

बैठक के पहले मिले पायलट और गहलोत 
मुख्यमंत्री आवास पर विधायक दल की बैठक के पहले मुख्यमंत्री गहलोत से पूर्व मुख्यमंत्री सचिन पायलट मिले. मुख्यमंत्री ने उन्हें खुद फ़ोन कर बुलाया था. बैठक के दौरान गहलोत ने पायलट की गर्म जोशी के साथ स्वागत किया. इस दौरान प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे, राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला, कांग्रेस संगठन महासचिव के सी वेणुगोपाल और अजय माकन भी मौजूद थे. 

गौरतलब है कि, 11 जुलाई से राजस्थान सरकार में शुरू संकट अब समाप्त हो गया है. पायलट ने 11 अगस्त को कांग्रेस नेता राहुल गाँधी और महासचिव प्रियंका गाँधी से हुई मुलाकात के बाद अपने समर्थक विधायकों के साथ वापिस कांग्रेस में लौटे. दोनों नेताओं के बीच करीब दो घंटे से ज्यादा समय था बात हुई थी. जिसके बाद सोनिया गाँधी ने नेताओं के बीच सामंजस बैठने के लिए तीन सदस्यी समिति बनाने का ऐलान किया था. इस दौरान प्रियंका गाँधी, संगठन महासचिव के सी वेणुगोपाल और गाँधी परिवार के बेहद क़रीबी अहमद पटेल भी मौजूद थे.