Bihar Police

    पंकज चौरसिया

    पटना. बिहार (Bihar) में बिगड़ती कानून व्यवस्था (Law And Order) को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Chief Minister Nitish Kumar) समेत मुख्य सचिव, गृह सचिव से लेकर डीजीपी समेत राज्य के कई आला अफसर लगातार बैठक करते रहते हैं। कानून व्यवस्था को ठीक करने के लिए बिहार के पुलिस महकमे में लगातार नए-नए तरीके भी अपनाए जा रहे हैं। इसी क्रम में अब बिहार पुलिस (Bihar Police) के स्पेशल ब्रांच (Special Branch) का अलग कैडर (Cadre) तैयार किए जाने का निर्णय लिया जा रहा है। बिहार पुलिस में स्पेशल ब्रांच का अब अलग कैडर होगा, जिसमें सिपाही से लेकर दारोगा तक के पदों पर भर्ती की जाएगी। पुलिस मुख्यालय में इसके लिए अलग से बहाली की जायेगी और यहां काम करने वाले सिपाही दारोगा या अन्य कर्मी अब यहीं से रिटायर भी होंगे। 

    मिली जानकारी के अनुसार, स्पेशल ब्रांच बिहार की इंटेलिजेंस विभाग है और सरकार इसे मजबूत करने के इरादे से यह फैसला ले रही है। बिहार सरकार ने सामान्य पुलिस विभाग से इसे अलग कैडर में बदलने का फैसला ले लिया है। जानकारी के अनुसार, इस विभाग में नौकरी पाने वाले दारोगा भी प्रमोशन पाकर एडिशनल एसपी के पद तक जा सकते हैं।

    अलग कैडर बनने से कर सकेंगे बेहतर काम

    सामान्य तौर पर पुलिस में कार्यरत दारोगा डीएसपी स्तर तक पहुंच पाते हैं। साथ ही स्पेशल ब्रांच में सिपाही के आधे पद यानी 50 प्रतिशत पद और एसआई और इंस्पेक्टर के 66 प्रतिशत पद क्लोज कैडर के ही अधीन होगा। वहीं दारोगा के कुल पदों के 90 प्रतिशत सीटों को सीधी बहाली से भरी जायेगी। बाकि 10 प्रतिशत प्रमोशन से भरे जाएंगे। वर्तमान में बिहार पुलिस के कर्मियों को ही स्पेशल ब्रांच में भेज दिया जाता है, वहीं स्पेशल ब्रांच के अफसरों को भी थाने में तैनात कर दिया जाता है। अलग कैडर बनने से अब ये कर्मी विशेष तरह की ट्रेनिंग ले सकेंगे और ज्यादा बेहतर काम कर सकेंगे।