devi-prasad-mishra

भुवनेश्वर/नयी दिल्ली. सीबीआई (CBI) ने सीशोर ग्रुप ऑफ कंपनीज की कथित संलिप्तता वाले करीब 1000 करोड़ रुपए के पोंजी घोटाले की जांच के तहत ओडिशा के विधायक एवं पूर्व पर्यटन मंत्री देवी प्रसाद मिश्रा (Devi Prasad Mishra) और अन्य लोगों के आवास समेत आठ स्थानों पर शुक्रवार को छापेमारी की। सीबीआई (CBI) दलों ने कटक और भुवनेश्वर में मिश्रा के आवासों और उनके भाई विष्णु प्रसाद मिश्रा एवं पूर्व पर्यटन निदेशक रवि नारायण नंदा के आवासीय परिसरों एवं कंपनी के परिसरों पर छापेमारी की।

एजेंसी ने महाराष्ट्र के ठाणे (पश्चिम) में स्वास्तिक इम्पेक्स प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक प्रशांत कुमार पटनायक के आवासों पर भी छापे मारे। वहीं, सत्तारूढ बीजद ने सीबीआई की कार्रवाई के पीछे राजनीति का आरोप लगाया और कहा कि चुनाव से पहले हमेशा इस तरह की छापेमारी की जाती है। बीजद प्रवक्ता लेनिन मोहंती ने संवाददाताओं से कहा, ” ऐसा चलन देखा गया है कि उपचुनाव से ठीक पहले सीबीआई तलाशी अभियान, छापेमारी और नोटिस जारी करना शुरू करती है। ” राज्य के दल तिर्तोल और बालासोर विधानसभा सीट के उपचुनाव को लेकर तैयारियों में जुटे हैं।

इस बीच जहां कांग्रेस ने भाजपा और बीजद के बीच साठगांठ का आरोप लगाया, वहीं भाजपा ने कहा कि सीबीआई की छापेमारी का उप चुनाव से कोई संबंध नहीं है। अधिकारियों ने बताया कि एजेंसी ने सीशोर ग्रुप ऑफ कंपनीज के खिलाफ सभी 23 मामलों को मिलाकर उसके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है। सीबीआई ने घोटाले के संबंध में कई आरोप पत्र भी दायर किए हैं। उन्होंने बताया कि उच्चतम न्यायालय के आदेशानुसार ‘‘और बड़े षड्यंत्र” का पता लगाने के लिए आगे की जांच के तहत ये छापे मारे गए। सूत्रों ने बताया कि सीशोर ग्रुप को महानदी बोटिंग परियोजना दिए जाने के बाद से मिश्रा विवादों में घिर गए हैं। उस समय मिश्रा ओडिशा के पर्यटन मंत्री थे।

कोविड-19 से संक्रमित होने के कारण घर पर पृथक-वास में रह रहे मिश्रा ने कहा कि यह ‘‘छापेमारी नहीं” थी और अधिकारी ‘‘केवल कुछ दस्तावेज चाहते” थे। पूर्व पर्यटन मंत्री ने सीबीआई अधिकारियों के उनके आवास से बाहर जाने के बाद संवाददाताओं से कहा, ‘‘उन्होंने मुझसे परियोजना के दस्तावेजों के बारे में पूछा और मैंने उन्हें बताया कि ये दस्तावेज मेरे पास नहीं, बल्कि विभाग में हैं।” विधायक मिश्रा ने कहा कि उन्होंने सीबीआई को पूरा सहयोग दिया। बीजद नेता ने कहा कि उन्हें सीबीआई के उनके घर आने के बारे में पहले से कोई जानकारी नहीं दी गई थी। सूत्रों ने बताया कि सीबीआई टीम करीब दो घंटे तक उनके घर में रही।