Odisha Assembly

भुवनेश्वर. ओडिशा विधानसभा के पास एक माँ-बेटे ने कथित पुलिस निष्क्रियता को लेकर सरकार का ध्यान खींचने के लिए शनिवार को खुद को आग लगाने का प्रयास किया। एक हफ्ते से भी कम समय में इस तरह की यह तीसरी घटना है। अधिकारियों ने बताया कि जगतसिंहपुर जिले के कुजांग की सुलोचना दास और उसके बेटे सुब्रत दास ने विधानसभा परिसर के करीब आईजी पार्क के पास खुद को आग लगाने का प्रयास किया।

उन्होंने बताया कि हालांकि, एक सतर्क सुरक्षा कर्मी ने तुरंत हस्तक्षेप किया और उन्हें माचिस की तीली जलाने से रोका। दोनों ने खुद पर किरोसीन तेल डाला था। हिरासत में लिए जाने के दौरान, सुलोचना ने कहा कि जगतसिंहपुर में पुलिस से न्याय पाने में असमर्थ होने के बाद वह भुवनेश्वर आई और आत्महत्या करने की कोशिश की।

उसने आरोप लगाया कि उसके दूसरे बेटे अम्ब्रुत दास की 20 जुलाई, 2019 को कथित तौर पर हत्या कर दी गई थी और पुलिस ने अप्राकृतिक मौत का मामला दर्ज करने के बाद इस मामले में जांच को बंद कर दिया। सुब्रत ने, “मुझे पता है कि मेरे भाई की हत्या की गई थी, लेकिन पुलिस न्याय देने में विफल रही। हमने कई मंचों से संपर्क किया, लेकिन निराश हाथ लगी।”

वर्तमान में विधानसभा का सत्र चल रहा है। गौरतलब है कि शुक्रवार को तीन किसानों ने विधानसभा गेट के पास आत्मदाह का प्रयास किया, जिन्होंने आरोप लगाया कि कुछ अज्ञात व्यक्तियों ने कटक जिला सहकारी बैंक से उनके नाम पर ऋण लिया लेकिन वे पुलिस के पास शिकायत दर्ज कराने के बाद भी न्याय पाने में विफल रहे हैं।

मंगलवार को नयागढ़ जिले के एक दंपति ने भी विधानसभा के सामने खुद को आग लगाने का प्रयास किया था। उसने अपनी नाबालिग बेटी का अपहरण और बाद में 14 जुलाई को उसकी मौत के मामले में न्याय की मांग की है। (एजेंसी)