Roopa Tirkey

    ओमप्रकाश मिश्र 

    रांची. झारखंड (Jharkhand) के साहिबगंज पुलिस (Sahibganj Police) थाने की महिला थाना प्रभारी रूपा तिर्की की संदिग्ध्य मौत पर 39 दिनों बाद राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Chief Minister Hemant Soren) को लगा कि रूपा ने आत्महत्या नहीं किया, बल्कि उसकी हत्या की गई है। उन्होंने रूपा तिर्की को अपनी बहन की संज्ञा देते हुए कहा कि रूपा तिर्की की मौत की जांच के आदेश दे दिए गए हैं और दोषी पाए गए अपराधियों को किसी भी हाल में बक्शा नहीं जाएगा।

    माँडर के विधायक बंधू तिर्की के साथ मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन दिवंगत महिला थाना प्रभारी रूपा तिर्की के घर जाकर उनके परिवार वालों से मुलाकात की। सोरेन रूपा की माँ पध्मावती तिर्की और पिता देवानंद तिर्की से मिलकर उन्हें इस बात का आश्वाश्न दिया कि यदि रूपा की हत्या की गई है तो गुनाहगारों को निश्चित रूप से सजा दिलाएंगे। इस मौके पर रूपा के माता-पिता ने बेटी खोने का दर्द जाहिर करते हुए मुख्यमंत्री से न्याय दिलाने की मांग की।

    एक सदस्यीय जांच आयोग का गठन

    हेमंत सोरेन ने रूपा तिर्की को अपनी बहन समान करार देते हुए कहा रूपा एक बेहतर और सशक्त महिला पुलिस थी। उनकी मौत का उन्हें गहरा दुःख है। रूपा की मृत्यु की जाँच के लिए न्यायिक जाँच का आदेश सोरेन ने दिया और उनके परिजनों को यकिन दिलाया की न्याय होगा। रूपा की मृत्यु की जाँच की जिम्मेदारी हाई कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश विनोद कुमार गुप्ता को दी गई है। सोरेन ने कहा कि पुरे मामले की निष्पक्ष और विस्तृत जांच की जानी चाहिए रूपा की मौत की जांच के लिए एक सदस्यीय जांच आयोग का गठन किया गया है। 

    लोगों ने जांच के लिए किया था प्रदर्शन

    गौरतलब है कि गत 3 मई को महिला थाना प्रभारी रूपा तिर्की को उनके सरकारी आवास में मृत पायी गयी थी। अन्त्य परीक्षण के लिए अस्पताल भेजे जाने पर डॉक्टरों ने बताया था कि रूपा तिर्की की मौत दम घुटने से हुई थी। रूपा तिर्की की मौत के बाद कई संस्थानों विधायकों और मंत्रियों ने प्रदर्शन कर रूपा की मृत्यु की सीबीआई जाँच की मांग की थी। रूपा की मृत्यु पर आन्दोलन पर उतरे लोगों के प्रदर्शन के पश्चात रूपा चाईबासा जिले में कार्यरत रूपा तिर्की से प्रेम सम्बन्ध बांये रखने वाले पुलिस इंस्पेक्टर शिव कुमार कनौजिया को गिरफ्तार कर लिया गया है।