Kakoli Ghosh Dastidar

कोलकाता. तृणमूल कांग्रेस (Trinamool Congress) के कुछ सदस्यों के पार्टी छोड़ने के बीच, पार्टी की लोकसभा सांसद काकोली घोष दस्तीदार (MP Kakoli Ghosh Dastidar) ने भाजपा (BJP) पर नेताओं से बड़े-बड़े वादे कर उन्हें पार्टी में आने का लालच देने का आरोप लगाते हुए शुक्रवार को कहा कि यह केन्द्र की नीतियों के खिलाफ आवाज उठा रहे, ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) की अगुवाई वाले नेतृत्व से बदला लेने का एक तरीका है।

दस्तीदार ने संवाददाताओं से कहा कि भाजपा लाख प्रयास कर ले लेकिन वह तृणमूल कांग्रेस सरकार के विकासात्मक कार्यों और जनहित वाली नीतियों की बराबरी नहीं कर सकती और इसीलिए वह सत्तारूढ़ पार्टी में दरार डाल कर अपने लोगों की संख्या बढ़ा रही है।

उन्होंने कहा, “भाजपा को झूठ बोलने वाली पार्टी के रूप में जाना जाता है। वे ममता बनर्जी के खिलाफ हैं क्योंकि वह नरेन्द्र मोदी के शासन के दौरान हुई आर्थिक आपदा की सबसे कटु आलोचक हैं। उन्होंने पीएसयू की बिक्री सहित राजग सरकार के निर्णयों की खुल कर आलोचना की है, इसलिए भाजपा उनसे बदला ले रही है। भाजपा तृणमूल कांग्रेस के नेताओं को अपने दल में आने का लालच दे रही है।”

पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से हाल ही में इस्तीफा देने वाले नेताओं के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, “कुछ हैं जो व्यक्तिगत लाभ के लिए कुछ काम, कुछ खास तरीके से करना चाहते हैं, यह कुछ ऐसा है जिसकी हमारी पार्टी कभी इजाजत नहीं देगी क्योंकि दीदी (ममता बनर्जी) पारदर्शिता पर विश्वास करती हैं।”

उन्होंने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि शांतिनिकेतन में पोस्टर लगाए गए हैं जिनमें गृह मंत्री अमित शाह की बीरभूम यात्रा का कार्यक्रम बताया गया है, और गुरुदेव रवीन्द्र नाथ टैगोर की तस्वीर को भाजपा के अन्य नेताओं के बगल में लगाया गया है।

काकोली ने कहा, “जो टैगोर को ठीक से नहीं जानते, जिन्होंने विद्यासागर की आवक्ष प्रतिमा को क्षतिग्रस्त किया और जिन्हें बिरसा मुंडा के बारे में अल्प ज्ञान है, वे अब टैगोर के निवास के बाहर होर्डिंग लगा रहे हैं और उनकी तस्वीर भाजपा नेताओं के बगल में लगा रहे है। बंगाल की जनता ऐसी ताकत को कभी स्वीकार नहीं करेगी जिसे बंगाल की संस्कृति और विरासत के बारे में जानकारी नहीं है।”

वहीं राज्य भाजपा नेतृत्व ने कहा है कि पार्टी ने ऐसे कोई पोस्टर नहीं लगाए हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि तृणमूल ने ‘‘ भगवा पार्टी का नाम खराब करने” के लिए यह काम किया होगा। (एजेंसी)