Dilip Ghosh

    कोलकाता: पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों में हार के करीब दो महीने बाद पार्टी की राज्य इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष ने मंगलवार को कहा कि ‘‘उम्मीदें हकीकत से मेल नहीं खा पाईं,” जैसा कि अनुमान जताया गया और अंतिम परिणाम देखने को मिला। साथ ही उन्होंने कहा कि सभी कमियों को दूर करने के लिए काम करेंगे। उन्होंने संकल्प जताया कि मुख्य विपक्षी दल राज्य में ‘‘लोकतंत्र बहाल” करेगा।

    पार्टी की राज्य इकाई ने दिन में कार्यकारिणी की बैठक के दौरान कहा कि भगवा दल चुनाव जीतने में भले ही विफल रहा लेकिन इसकी संख्या विधानसभा में तीन से बढ़कर 77 हो गई और इसे 2.8 करोड़ मतदाताओं ने वोट दिया। घोष ने कहा, ‘‘हमारी संख्या में काफी बढ़ोतरी हुई है और निश्चित तौर पर हम अलोकतांत्रिक, तानाशाही और भ्रष्ट टीएमसी के खिलाफ आगामी उपचुनावों में अच्छी लड़ाई लड़ेंगे।

    निश्चित रूप से हम खामियों को दूर करेंगे जिस कारण विधानसभा चुनाव में हमारी हार हुई और हम मजबूत बनकर उभरेंगे।” बहरहाल, उन्होंने कहा कि भाजपा को नगर निकाय चुनावों को लेकर बहुत उम्मीद नहीं है जिसे राज्य चुनाव आयोग की देखरेख में कराया जाएगा।

    तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) से पाला बदलकर भाजपा में आए राजीव बनर्जी के बैठक में नहीं आने पर घोष ने कहा, ‘‘हम इस तरह के कारकों का विश्लेषण करेंगे और इन मुद्दों पर चर्चा करेंगे।” विधानसभा चुनावों से पहले टीएमसी छोड़कर भाजपा में शामिल हुए बनर्जी मई में चुनाव परिणाम जारी होने के बाद से भगवा दल से दूरी बनाए हुए हैं। वह दोमजुर सीट से विधानसभा चुनाव हार गए थे।