This year in West Bengal, colleges will be admitted through online medium

कोलकाता.  पश्चिम बंगाल का शिक्षा विभाग कोविड-19 के बारे में विद्यार्थियों को जागरुक बनाने के प्रयास के तहत 2021 से स्कूल पाठ्यक्रम में घातक वायरस पर एक पाठ शामिल करने पर विचार कर रहा है। पाठ्यक्रम समिति के एक अधिकारी ने कहा कि राज्य शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने हाल ही में कोरोना वायरस की प्रकृति और प्रकोप को रोकने के उपाय के बारे में सूचना के प्रचार-प्रसार का मुद्दा उठाया था। पाठ्यक्रम समिति के प्रमुख अवीक मजूमदार ने पीटीआई-भाषा को बताया, “हम सदस्यों और विशेषज्ञों के बीच इस विषय पर चर्चा का आयोजन कर रहे हैं।”

एक अन्य अधिकारी ने बताया कि छोटी से लेकर बड़ी कक्षाओं के पाठ्यक्रम में कोरोना वायरस पर पाठ शामिल करने पर विचार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 प्रकोप के मद्देनजर छोटी कक्षाओं के लिए संक्रमण को रोकने में साफ-सफाई के बुनियादी तरीकों और सुरक्षा उपायों को सीखना तथा बड़ी कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए संक्रामक रोग के प्रकार और उसके म्यूटेंट्स को जानना जरूरी है। मजूमदार ने कहा, “पाठ की सटीक समाग्री पर फैसला लेने से पहले शिक्षकों एवं शिक्षाविदों के अलावा हमारे लिए चिकित्सकों, विषाणु वैज्ञानिकों, महामारी विदों के विचार जानना भी जरूरी है।”