narsimha-reddy

हैदराबाद. तेलंगाना (Telangana) में सत्तारूढ तेलंगाना राष्ट्र समिति के वरिष्ठ नेता एवं प्रदेश के पूर्व गृह मंत्री नयानी नरसिम्हा रेड्डी (Naini Narshimha Reddy) का बुधवार-बृहस्पतिवार की दरमियानी रात को निधन हो गया। वह 76 वर्ष के थे। वर्ष 2014 में तेलंगाना की स्थापना के बाद रेड्डी राज्य के पहले गृहमंत्री बने थे। सूत्रों ने बताया कि यहां के एक निजी अस्पताल में बुधवार को आधी रात के बाद 12 बजकर 25 मिनट पर उन्होंने आखिरी सांस ली। रेड्डी का कोविड-19 बीमारी के बाद फेफड़े में उत्पन्न जटिलताओं का इलाज चल रहा था ।

रेड्डी हैदराबाद में मजूदर संघ के वरिष्ठ नेता थे और अलग तेलंगाना राज्य की मांग को लेकर हुए प्रदर्शनों में उन्होंने सक्रिय भूमिका निभाई थी। वह अविभाजित आंध्र प्रदेश की विधानसभा के लिए तीन बार – 1978, 1985 और 2004- निर्वाचित हुये थे । तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) द्वारा वर्ष 2004 में कांग्रेस के साथ गठबंधन करने पर रेड्डी ने दिवंगत वाईएस राजशेखर रेड्डी सरकार में बतौर मंत्री अपनी सेवाएं दीं थी। मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव बुधवार को ही उस निजी अस्पताल गए थे जहां पर रेड्डी का इलाज चल रहा था और उन्होंने उनके स्वास्थ्य की जानकारी ली थी।

आधिकारिक बयान में मुख्यमंत्री राव ने रेड्डी के साथ अलग तेलंगाना राज्य के आंदोलन और सरकार में संबंधों को याद किया और उनके निधन पर शोक व्यक्त किया। मुख्यमंत्री ने रेड्डी का अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान से करने का निर्देश दिया है। टीआरएस के कई वरिष्ठ नेताओं, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बंडी संजय कुमार, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एवं सांसद एन उत्तम कुमार रेड्डी ने नरसिम्हा रेड्डी के निधन पर शोक व्यक्त किया है।