IPS Hemant Nimablkar

बेंगलुरू. केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने कई करोड़ रूपये के आईएमए पोंज़ी योजना घोटाले को कथित रूप से छिपाने के सिलसिले में एक वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी से पूछताछ की है। सीबीआई सूत्रों ने मंगलवार को पीटीआई-भाषा को बताया, “तीन दिन पहले हेमंत निम्बालकर से हमने पूछताछ की थी।”

सीबीआई ने निम्बालकर और एक अन्य आईपीएस अधिकारी अजय हिलोरी के खिलाफ फरवरी में मामला दर्ज किया था। राज्य सरकार ने उनके खिलाफ अभियोग को मंजूरी दी थी। उनपर घोटाले को छिपाने और पोंजी योजना के संचालकों को बचाने का आरोप है।

सूत्रों ने बताया कि सीबीआई ने 21 नवंबर को पोज़ी योजना के संचालक मोहम्मद मंसूर खान की हिरासत ली थी जिसके बाद हाल में निम्बालकर को फिर से समन भेजा गया था। सूत्रों ने बताया कि निम्बालकर और खान से पूछताछ के एक दिन बाद पूर्व मंत्री एवं कांग्रेस के नेता आर रोशन बेग से भी पूछताछ की गई थी और उन्हें गिरफ्तार किया गया था।

एजेंसी ने रविवार को दिनभर की पूछताछ के बाद बेग को गिरफ्तार किया था। यह मामला आई-मनिटरी एडवाइजरी (आईएमए) पोज़ी योजना में 4,000 करोड़ रुपये के घोटाले से संबंधित है। इस योजना में एक लाख निवेशकों को ठगा गया। यह घोटाला पिछले साल जून में तब सामने आया जब बेग और कुछ सरकारी अधिकारियों पर अपने साथ धोखाधड़ी का आरोप लगाकर खान देश से भाग गया। खान ने आरोप लगाया था कि बेग ने उससे 400 करोड़ रुपये लिए थे, हालांकि कांग्रेस नेता ने इस आरोप से इनकार किया। (एजेंसी)