corona
File Photo

    कोलकाता. कोविड-19 के मामलों में वृद्धि के मद्देनजर पश्चिम बंगाल में संग्रहालयों, तारामंडल, चिड़ियाघरों, राष्ट्रीय उद्यानों को बंद कर दिया गया है। अलीपुर जैविक उद्यान के निदेशक आशीष सामंत ने पीटीआई-भाषा को मंगलवार को बताया कि उद्यान में अप्रैल में औसतन 400 लोग आए, लेकिन एक मई से अनिश्चितकाल के लिये बंद किये जाने से पहले 30 अप्रैल को सिर्फ 150 लोग घूमने के लिये आए।

    सामंत ने कहा, ‘‘राज्य सरकार ने फैसला किया है कि वन विभाग द्वारा राज्य में संचालित सभी चिड़ियाघर, राष्ट्रीय उद्यान और अभयारण्य एक मई से अगले आदेश तक आम जनता के लिये बंद रहेंगे। फरवरी में औसतन 1000 आगंतुक आए, जिनकी संख्या संक्रमण की खबर फैलने के बाद धीरे-धीरे घटकर अप्रैल में औसतन 400 रही।”

    एम पी बिड़ला तारामंडल के निदेशक और जाने-माने खगोल भौतिकीविद देबीप्रसाद दुआरी ने कहा कि छात्रों और ब्रह्मांड की दुनिया में दिलचस्पी रखने वालों के लिये लोकप्रिय स्थान को वायरस का संक्रमण फैलने के डर से 17 अप्रैल से बंद कर दिया गया।

    हालांकि, तारामंडल को बंद किये जाने से पहले कोविड नियंत्रण के उपायों के तहत दर्शकों की संख्या घटाकर एक तिहाई करने जैसे कदम उठाए गए थे। उन्होंने कहा कि दिसंबर से फरवरी के बीच तारामंडल में कुछ शो में खचाखच भीड़ रहती थी, लेकिन मार्च से भीड़ घटनी शुरू हो गई।

    साइंस सिटी और भारतीय संग्रहालय, कोलकाता के निदेशक ए डी चौधरी ने कहा, “केंद्र सरकार के निर्देश के मुताबिक हमने परिसर में आगंतुकों के प्रवेश पर रोक लगा दी है और 16 अप्रैल से शो को 15 मई तक बंद कर दिया गया है।” उन्होंने कहा कि इस संबंध में भविष्य में कोई भी फैसला हालात पर गौर करते हुए केंद्र सरकार के निर्देश के अनुसार लिया जाएगा। (एजेंसी)