CM Pinarayi Vijayan
File Photo : PTI

तिरुवनंतपुरम. केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने कहा कि सोशल मीडिया का दुरुपयोग कर महिलाओं के साथ अभ्रदता करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी और इस संबंध में मौजूदा कानून पर्याप्त नहीं हुए तो राज्य सरकार उचित प्रावधान बनाने पर विचार करेगी।

गौरतलब है कि महिलाओं पर एक कथित अपमानजनक वीडियो के मामले में यहां एक यूट्यूबर को मलयाली कलाकार भाग्यलक्ष्मी समेत अनेक सामाजिक कार्यकर्ताओं की नाराजगी का सामना करना पड़ा। इसी मामले की पृष्ठभूमि में विजयन ने रविवार को फेसबुक पर एक पोस्ट में कहा कि एलडीएफ सरकार बदसलूकी के पीड़ित लोगों के साथ खड़ी है। उन्होंने यह भी कहा कि ‘व्यापक जांच’ का आदेश दिया गया है और सरकार सुनिश्चित करेगी कि पीड़ित महिलाओं को न्याय मिले।

यूट्यूबर विजय पी नायर ने पिछले दिनों एक वीडियो डाला था और इसमें उन्होंने कथित तौर पर महिलाओं के अंत:वस्त्र की बात करते हुए 86 वर्षीय कवियत्री और कार्यकर्ता सुगता कुमारी तथा भाग्यलक्ष्मी समेत अनेक महिलाओं को निशाना बनाया था। इसकी व्यापक आलोचना हुई थी।

भाग्यलक्ष्मी, सामाजिक कार्यकर्ता दीया सना और दो अन्य ने शनिवार को यहां पास में ही नायर के दफ्तर में घुसकर उन पर काला तेल फेंक दिया और सोशल मीडिया पर महिलाओं के बारे में अपमानजनक वीडियो डालने के लिए उनके साथ मारपीट भी की। पुलिस ने चार महिलाओं की शिकायत के आधार पर नायर के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

वहीं नायर ने भी एक शिकायत में इन महिलाओं पर हमला करने समेत अन्य आरोपों में मामला दर्ज कराया है। विजयन ने कहा कि सरकार “महिलाओं का अपमान करने के साथ मानवता और सभ्यता के बंधनों का उल्लंघन करने वाली गतिविधियों को बहुत गंभीरता से लेती है”।

उन्होंने कहा, “जो लोग सोशल मीडिया का दुरुपयोग कर महिलाओं के लिए अपशब्दों का इस्तेमाल करते हैं, उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। अगर मौजूदा कानून पर्याप्त नहीं हुए तो उचित विधेयक लाने पर विचार किया जाएगा।”