PTI Photo
PTI Photo

कोलकाता. भाजपा (BJP) के उपाध्यक्ष मुकुल रॉय (Mukul Roy) ने बृहस्पतिवार को दावा किया कि तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) (TMC) का गठन माकपा के विरोध और कांग्रेस के विरोध के आधार पर हुआ था और पार्टी की कोई रचनात्मक विचारधारा नहीं है, लिहाजा यह पार्टी बिखर जाएगी। रॉय ने यहां पत्रकारों से कहा कि ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) नीत पार्टी के पास प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) की आलोचना करने के सिवाए कोई एजेंडा नहीं है।

गौरतलब है कि बनर्जी ने कांग्रेस से अलग हो कर 1998 में टीएमसी का गठन किया था और 2011 में बंगाल की सत्ता पर 34 साल से काबिज माकपा नीत वाम मोर्चे की सरकार को बेदखल किया था।

रॉय ने दावा किया, “पार्टी में सबकुछ ममता बनर्जी पर केंद्रित होता है और जो भी अच्छा होता है,उसका श्रेय उन्हें दिया जाता है। ऐसे में कोई भी वास्तविक आत्मसम्मान वाला राजनीतिक शख्स जिसके पास सालों का जमीनी स्तर का अनुभव है, उसका पार्टी में दमघुटना तय है और दमघोंटू माहौल किसी निजी लिमेटिड कंपनी से बदतर हो सकता है।” रॉय को कभी बनर्जी का दायां हाथ माना जाता था।

उन्होंने 2017 में पार्टी छोड़ दी थी और भाजपा का दामन थाम लिया था। उन्होंने कहा, ” बांग्ला कांग्रेस की तरह ही टीएमसी को भी शुरुआत में सफलता मिली, लेकिन यह लंबे समय तक नहीं चलेगी। यह निकट भविष्य में बिखर जाएगी।” राय का बयान ऐसे समय में आया है जब शुभेंदु अधिकारी जैसे टीएमसी नेताओं ने पार्टी छोड़ दी है।

कांग्रेस नेता अजय मुखर्जी ने पार्टी से अलग होकर बांग्ला कांग्रेस गठित की थी जिसने 1967 और 1970 के बीच माकपा के साथ मिलकर दो बार सरकार बनाई थी लेकिन दोनों ही सरकारें ज्यादा समय तक चल नहीं पाई थीं। पार्टी का बाद में कांग्रेस में विलय कर दिया गया था। (एजेंसी)