ममता बनर्जी का शुभेंदु अधिकारी पर बड़ा आरोप, बोली- यूपी, बिहार से गुंडे लाकर मुझपर करवाया हमला

    नंदीग्राम: नंदीग्राम (Nandigram) की लड़ाई बड़ी दिलचस्प होती जा रही है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) और सुभेंदु अधिकारी (Suvendu Adhikari) प्रचार में अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। इस दौरान दोनों नेता एक दूसरे पर हमला करने का कोई मौका नहीं छोड़ रहे हैं। इसी मद्देनजर तृणमूल कांग्रेस (Trinamool Congress) सुप्रीमो ने भारतीय जनता पार्टी (Bhartiya Janta Party) नेता पर बड़ा आरोप लगाया है। सोमवार को नंदीग्राम में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए ममता ने कहा, “उन्होंने मुझे पर यूपी और बिहार से गुंडे लाकर हमला करवाया।”

    मैं रॉयल बंगाल टाइगर हूं  

    टीएमसी नेता ने कहा, “जो लोग संस्कृति से प्यार नहीं कर सकते, वे यहां राजनीति नहीं कर सकते। गुंडागर्दी देख रहा है नंदीग्राम। हमने बीरुलिया में बैठक की, टीएमसी कार्यालय को नष्ट कर दिया। वह (सुवेन्दु अधकारी) जो चाहे कर रहा है। मैं गेम भी खेल सकती हूं। मैं भी शेर की तरह जवाब दूंगा। मैं रॉयल बंगाल टाइगर हूं।”

    महिलाए बर्तनों से उन्हें पिटे 

    सीएम ममता ने कहा, “उन्होंने मुझ पर हमला किया। नंदीग्राम के किसी व्यक्ति ने मुझ पर हमला नहीं किया लेकिन आप यूपी, बिहार से गुंडे लाए। हम स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव चाहते हैं। अगर वे आते हैं, तो महिलाओं को बर्तनों से पीटना चाहिए।”

    निष्पक्ष चुनाव के लिए असामाजिक तत्वों को गिरफ्तार करो

    सोमवार को टीएमसी एकप्रतिनिधिमंडल पश्चिम बंगाल के मुख्य निर्वाचन अधिकारी से मिला है। इस मंडल ने स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चित करने के लिए ‘पूर्वी मिदनापुर में सभी असामाजिक तत्वों को तुरंत गिरफ्तार करने की मांग की है। 

    इसी के साथ प्रतिनिधिमंडल ने उन्हें पूर्वी मिदनापुर में दूसरे चरण के चुनावों के दौरान यूपी, एमपी, बिहार और किसी भी अन्य भाजपा/राजग शासित राज्यों से सशस्त्र बलों की तैनाती से परहेज करने के लिए आग्रह किया है। 

    अधिकारी बाहर से लोग बुला रहे 

    टीएमसी प्रतिनिधिमंडल ने यह भी आरोप लगाया कि भाजपा के सुवेन्दु अधिकारी उन अपराधियों को शरण दे रहे हैं जो निर्वाचन क्षेत्र  नंदीग्राम के निवासी नहीं हैं। टीएमसी ने मुख्य निर्वाचन अधिकारी से कहा है कि वे अधिकारी द्वारा बुलाए सभी बाहरी अपराधियों को पकड़ने के लिए आवश्यक आवश्यक कदम उठाए जाने की मांग की है।