kolkata

कोलकाता. पश्चिम बंगाल (West Bengal)  में उपनगरीय ट्रेन सेवा शुरू होने के सिर्फ एक दिन बाद ही बृहस्पतिवार सुबह ट्रेनों में बहुत भीड़ थी और कोरोना (Corona) नियमों के पालन के प्रति यात्रियों में लापरवाही देखी गई। यात्री उन लोकल ट्रेनों में भी चढ़ रहे थे, जो पहले से ही भरी हुई थी। कई यात्रियों ने मांग की कि व्यस्त समय में ट्रेनों की संख्या बढ़ाई जाए।

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को रेलवे अधिकारियों से अपील की थी कि वे ज्यादा ट्रेन चलाएं ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि यात्रियों को भीड़-भाड़ का सामना न करना पड़े। रेलवे पुलिस कर्मी और अन्य अधिकारी स्टेशन परिसरों में यात्रियों की संख्या को नियंत्रित करने की कोशिश कर रहे थे। उनकी ये कोशिशें खास तौर पर पूर्वी रेलवे के सियालदह और हावड़ा रेलखंडों में नाकाम दिखीं। दक्षिणी पूर्वी रेलवे के हावड़ा-खड़गपुर खंड में स्थिति कुछ बेहतर थी। एक अधिकारी ने बताया कि पूर्वी रेलवे सियालदह खंड में 413 उपनगरीय ट्रेनें जबकि हावड़ा खंड में 202 ट्रेनें बुधवार से चलनी शुरू हुई हैं। दक्षिण-पूर्व रेलवे 81 नियमित ट्रेनों का परिचालन कर रहा है।