कोविड-19 जांच की क्षमता बढ़ाने के लिए ससून को 12.44 करोड़ का निधि

– उपमुख्यमंत्री अजित पवार की जानकारी

पुणे. कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए ज्यादा से ज्यादा टेस्टिंग क्षमता बढ़ाना जरुरी है. इस दृष्टि से पुणे के ससून अस्पताल की क्षमता बढ़ाने के लिए 12 करोड़ 44 लाख रुपयों का निधि मंजूर किया गया है, ऐसी जानकारी उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने दी. इसके अलावा कोरोना मरीजों पर इलाज कराने में ज्यादा शुल्क वसूलने वाले अस्पतालों पर कार्रवाई की जाए, ऐसे निर्देश उन्होंने अधिकारियों की बैठक में दिए.

विभागीय आयुक्त कार्यालय के ‘झुंबर हॉल’ में उपमुख्यमंत्री अजित पवार की अध्यक्षता में ‘कोरोना’ संक्रमण प्रतिबंधक उपाय योजनों की जायजा बैठक आयोजित की गई.

कोरोना रोकने किसी बात की कमी नहीं होगी

बैठक में अजित पवार ने कहा कि कोविड-19 की जांच के लिए जरुरी सामग्री के लिए 8 करोड़ 90 लाख 97 हजार तथा संयंत्रों के लिए 3 करोड़ 53 लाख 6 हजार रुपयों का निधि मंजूर किया गया है. इसके अलावा बाकी जरुरी साजो सामान के लिए 7 करोड़ 15 लाख 81 हजार रुपयों का निधि भी दिया गया है. इस निधि से कोरोना प्रतिबंधों के लिए सामग्री की कोई कमी नहीं रहेगी.

रिपोर्ट समय रहते उपलब्ध कराएं

उन्होंने कहा कि कोविड-19 जांच के रिपोर्ट समय रहते उपलब्ध कराएं. नमूनों को जांच के लिए प्रयोगशालाओं में पर्याप्त मात्रा में मानव संसाधन उपलब्ध कराने के लिए सरकारी अस्पतालों की जानकारी अपडेट रखें. किसी भी डॉक्टर की ओर से मरीज के इलाज में अनदेखी बर्दाश्त नहीं की जाएगी. उन्होंने कहा कि कोरोना के मरीज़ों को समय रहते इलाज मिलने की दृष्टि से निधि में कोई कमी नहीं रहेगी. जरुरी खर्चों के लिए जिला वार्षिक योजना के माध्यम से निधि खर्च करें.

उपमुख्यमंत्री को स्थिति से कराया अवगत

महापौर मुरलीधर मोहोल ने कोरोना जांच की गति बढ़ाने तथा मरीजों के इलाज के लिए मनपा के अस्पतालों को सुसज्जित रखने की जानकारी इस समय दी. इस समय विभागीय आयुक्त डॉ. दीपक म्हैसेकर, जमाबंदी आयुक्त एस. चोक्कलिंगम, पुणे पुलिस आयुक्त डॉ. के. व्यंकटेशम, जिलाधिकारी नवल किशोर राम, पिंपरी चिंचवड पुलिस आयुक्त संदीप बिष्णोई, पुणे मनपा आयुक्त शेखर गायकवाड, पिंपरी चिंचवड मनपा आयुक्त श्रावण हर्डीकर, सहकार आयुक्त अनिल कवडे, साखर आयुक्त सौरभ राव, पुणे महानगर प्रदेश विकास प्राधिकरण के आयुक्त विक्रम कुमार, पशुसंवर्धन आयुक्त सचिंद्र प्रताप सिंग, भूजल विकास व सर्वेक्षण विभाग के संचालक कौस्तुभ दिवेगांवकर, अतिरिक्त आयुक्त रुबल अग्रवाल, जिला पुलिस अधीक्षक संदीप पाटिल, जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी आयुष प्रसाद, ससून के प्रभारी अधिष्ठाता डॉ. मुरलीधर तांबे, स्वास्थ्य विभाग के निवृत्त महासंचालक डॉ. सुभाष सालुंखे समेत विभिन्न विभाग के अधिकारी उपस्थित थे.