चाकण में ऑक्सीजन के 12 सिलेंडर चोरी

  • कोरोनाकाल में प्राणवायु को भी नहीं बख्श रहे चोर

पिंपरी. देश भर में कोरोना महामारी के तेजी से बढ़ते प्रकोप के बीच ऑक्सीजन सिलेंडरों की भारी मांग है. महामारी के संक्रमण की चपेट में आने वाले लोगों की तबीयत ज्यादा खराब होने पर अस्पताल में इलाज के दौरान ऑक्सीजन सिलिंडर की जरुरत पड़ती है. ऐसे में चहुंओर ऑक्सीजन सिलेंडरों की मांग बढ़ रही है मगर विपदा की इस घड़ी में चोर प्राणवायु की चोरी करने से भी नही कतरा रहे हैं. यह साबित होता है पिंपरी-चिंचवड़ पुलिस आयुक्तालय की सीमा में चाकण में हुई एक वारदात से, जिसमें ऑक्सीजन के 12 सिलेंडरों की चोरी किये जाने की जानकारी सामने आयी है.

टेम्पो से उतार कर पिकअप जीप में ले गए सिलेंडर

महालुंगे पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार इस वारदात के बारे में बाबूराव बिसाजी चौधरी (52) ने शिकायत दर्ज कराई है. शुक्रवार की शाम छह बजे महालुंगे गांव में देवा एंटरप्राइजेज के सामने यह वारदात हुई है. पुलिस ने बताया कि चौधरी ने अपना टेम्पो देवा एंटरप्राइजेज के सामने पार्क किया था. इस दौरान चोरों ने उनकी महिंद्रा पिकअप जीप जिसमें 12 ऑक्सीजन सिलेंडर और एसीटोलीन गैस के खाली 7 सिलेंडर रखे थे, को चुरा लिया. पिकअप जीप की कीमत दो लाख रुपए है जबकि उसमें भरे सिलेंडरों की कीमत 95 लाख रुपए बताई गई है.

कोविड अस्पताल में की जानी की सप्लाई

पुलिस ने वारदात की जानकारी देते हुए बताया कि चौधरी चाकण एमआईडीसी इलाके में निजी अस्पतालों से ऑक्सीजन सिलिंडर जमा कर उन्हें अन्य अस्पतालों में हर रोज डिलिवर करते हैं. उन्होंने शुक्रवार की रात गांव में अपने घर के बिल्कुल पास में ही अपनी गाड़ी पार्क की थी. अगली सुबह जगने के बाद जब वो अपनी गाड़ी लेने गए तो उनकी गाड़ी नदारद थी. उसमें से ऑक्सीजन 12 सिलिंडर थे, जिन्हें कोविड-19 अस्पताल में सप्लाई किये जाने थे. ऑक्सीजन सिलिंडर के अलावा सात एसीटोलीन गैस के खाली 7 सिलिंडर भी रखे हुए थे और चोर इसे भी अपने साथ ले गए.

अस्पतालों को किया एलर्ट

कोरोना संक्रमण के बीच ऑक्सीजन सिलिंडर की मांग काफी बढ़ गई है. पुलिस ने चौधरी की शिकायत के आधार पर मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है. साथ ही आसपास के अस्पतालों को इस संबंध में अलर्ट किया है कि अगर कोई भी व्यक्ति उन्हें ऑक्सीजन सिलिंडर देने का ऑफर करे तो तुरंत पुलिस को सूचना दें. पिंपरी चिंचवड़ पुलिस का कहना है कि यह पहला मौका है जब ऑक्सीजन सिलिंडर की चोरी का मामला दर्ज हुआ है. इस मामले की जांच जारी है और चोरों को पकड़ने की कोशिश की जा रही है.