Number of corona sufferers in Pune division crosses 5.59 lakhs

पुणे. दिल्ली में कोरोना के आतंक के बाद राज्य सरकार ने एहतियात बरतना शुरू कर दिया है. दूसरी लहर की आशंका के चलते दिल्ली, अहमदाबाद और गोवा से आने वाले यात्रियों का कोरोना टेस्ट अनिवार्य कर दिया है. इस टेस्ट के बिना  विमान में प्रवेश न करने देने का निर्देश दिया गया है. 

इसके बावजूद विमान कंपनियों द्वारा उन्हें प्रवेश देकर नियमों  का उल्लंघन किया जा रहा है. पुणे एयरपोर्ट पर ऐसे यात्रियों की जांच की गई, जिसमें 15 यात्री कोरोना पाजिटिव पाए गये. यह जानकारी मनपा प्रशासन द्वारा दी गई.

यात्रियों का RT-PCR टेस्ट जरूरी

ज्ञात हो कि दिल्ली सहित देश के कुछ शहरों में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ने की वजह से राज्य सरकार ने प्रतिबंधात्मक उपाय के तौर पर यात्रियों का RT-PCR (रिवर्स ट्रांसक्रिप्शन पोलीमरेज चेन रिएक्शन) टेस्ट कराना अनिवार्य कर दिया है. इसके बावजूद उक्त शहरों से आने वाले कुछ यात्री कोरोना टेस्ट के सर्टिफिकेट के बिना यात्रा कर रहे हैं. मनपा प्रशासन ने अब तक 375 यात्रियों का RT-PCR टेस्ट किया है, जिनमें 15 यात्री कोरोना संक्रमित पाये गये. मनपा के स्वास्थ्य विभाग द्वारा ये टेस्ट किये जा रहे हैं और इसके लिए शुल्क के रूप में 1600 रुपए लिए जाते हैं.

यात्रियों को घर में रहने की सलाह

दिल्ली, राजस्थान, गुजरात और गोवा राज्यों से आने वाले यात्रियों का एयरपोर्ट पर टेस्ट किया जा रहा है और डाक्टरों की सलाह के अनुसार उन्हें घर में ही रहने का विकल्प दिया जा रहा है. यदि जरूरत हो तो संबंधित मरीज को इलाज के लिए कोविड सेंटर में भर्ती कराया जा रहा है.

सर्टीफिकेट के बाद ही यात्रा की इजाजत

विमान से उतरने के बाद जिन यात्रियों के पास RT-PCR टेस्ट की रिपोर्ट नहीं होती, उन यात्रियों का टेस्ट किया जाता है और उसके बाद उन्हें घर भेजा जाता है. टेस्ट की रिपोर्ट संबंधित यात्रियों के व्हाट्सएप पर भेजी जाती है या वेबसाइट पर डाली जाती है. वास्तव में यात्रियों को यात्रा करते समय कोविड टेस्ट कराना जरूरी है. मनपा की ओर से कहा गया कि विमान कंपनियों को भी RT-PCR टेस्ट का सर्टिफिकेट न रहने वाले यात्रियों को प्रवेश नहीं देना चाहिए. इससे मनपा के सिस्टम पर प्रेशर पड़ रहा है.