mumbia metro
file

    पुणे. शहर में पिंपरी (Pimpri) से स्वारगेट (Swargate) और वनाज (Vanaj) से रामवाडी (Ramwadi) के बाद शिवाजीनगर से लेकर हिंजवडी तक तीसरे चरण की मेट्रो (Metro) बनाई जाएगी। उसके लिए कुल 426 करोड़ का खर्चा आएगा। इस काम में महानगरपालिका (Municipal Corporation) द्वारा 158 करोड़ का हिस्सा दिया जाएगा। शेष खर्चा पीएमआरडीए (PMRDA) द्वारा किया जाएगा। इससे संबंधित प्रस्ताव को मंगलवार की स्थाई समिति की बैठक में मंजूरी दी गई। ऐसी जानकारी स्थायी समिति के अध्यक्ष हेमंत रासने ने दी।  

    दो मंजिला उड़ानपुल बनाया जाएगा

    इस मार्ग की कुल लंबाई 23.33 किमी है। पुणे नगर निगम के अधिकार क्षेत्र में 14 किमी लंबी लाइन प्रस्तावित की गई है और 14 स्टेशनों का निर्माण किया जाएगा।  शिवाजीनगर, पुणे कोर्ट, सावित्रीबाई फुले पुणे विश्वविद्यालय, बानेर रोड, बालेवाड़ी शहर की सीमा के भीतर मेट्रो मार्ग है। परियोजना रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2021 में प्रति घंटे 8 हजार 143 यात्रियों के यात्रा करने की संभावना है। वर्ष 2051 में यात्रियों की इतनी ही संख्या 22 हजार 125 प्रति घंटा होगी। केंद्र और राज्य सरकारों ने मेट्रो रेलवे स्टेशन की सुविधा और कार डिपो के लिए भूमि अधिग्रहण की अनुमति दे दी है। विद्यापीठ चौक में मेट्रो लाइन पर एकात्मिक दो मंजिला उड़ानपुल बनाया जाएगा।  इसके लिए कुल 268 करोड़ का खर्चा आएगा।  इसका खर्चा पीएमआरडीए द्वारा किया जाएगा।  जबकि पीएमआरडीए द्वारा मांग की जा रही थी महानगरपालिका इसमें से 134 करोड़ का हिस्सा दें। लेकिन महानगरपालिका ने यह बोज अपने जिम्मे नहीं लिया है। उसके अनुसार यह काम पीएमआरडीए को ही करना पड़ेगा।  

    महानगरपालिका कौन से काम करेगी 

    स्थायी समिति के अध्यक्ष हेमंत रासने ने कहा कि उड़ानपुल का काम छोड़कर शेष काम महानगरपालिका द्वारा किए जाएंगे। इसमें शिवाजीनगर की ओर से औंध की ओर जानेवाले सड़क पर अंडरपास करना। उसके लिए 68 करोड़ की लगत आएगी। सेनापति बापट रोड से बानेर और पाषाण के लिए जानेवाले उड़ानपुल में दो रैंप कनेक्शन करना, उसके लिए 25 करोड़, हरेकृष्ण मंदिर स्थित ग्रेड सेपरेटर करने के लिए 15 करोड़, शिमला ऑफिस चौक में दो लेन ग्रेड सेपरेटर करने के लिए 10करोड़, अभिमानश्री चौक में ग्रेड सेपरेटर करने के लिए 40 करोड़, ऐसे कुल 158 करोड़ का काम महानगरपालिका विभिन्न चरणों में करेगी। इससे संबंधित  प्रस्ताव को स्थायी समिति ने मंजूरी दी है।  

    किस तरह से आएगा खर्चा 

    • विद्यापीठ चौक एकात्मिक दो मंजिला उड़ानपुल – 268 करोड़  
    • शिवाजीनगर -औंध  अंडरपास  – 68 करोड़  
    • दो रैंप कनेक्शन -25 करोड़  
    • हरे कृष्ण मंदिर ग्रेड सेपरेटर – 15 करोड़ 
    • शिमला चौक 2 ग्रेड सेपरेटर – 10 करोड़ 
    • अभिमानश्री चौक में ग्रेड सेपरेटर – 40 करोड़ 
    • कुल  खर्च –  426 करोड़