सादगी से मनाया गया बालगंधर्व रंगमंदिर का 53वां स्थापना दिवस

पुणे. बालगंधर्व रंगमंदिर का स्थापना दिन हर वर्ष उत्साहपूर्व माहौल में मनाया जाता है. इस बार 53वां स्थापना दिवस सादगी से मनाया गया. कोरोना महामारी के कारण पूरी स्थिति बदल गई है. बदली हुई स्थिति और सरकार के आदेश का पालन करते हुए महापौर मुरलीधर मोहोल, उपमहापौर सरस्वती शेंडगे, बालगंधर्व परिवार के अध्यक्ष मेघराज राजेभोसले, लक्ष्मीकांत खाबिया और परिवार के चुनिंदा पदाधिकारी और सदस्यों ने पुष्प अर्पण कर केक काटकर स्थापना दिवस मनाया.

इस वक्त पर्दा उठाकर उसकी पूजा की गई. साथ ही कलाकारों ने नटराज से हमेशा पर्दा जल्द उठाकर कार्यक्रम शुरू करने के लिए गुहार लगाई. रंगमंदिर का पर्दा उठाने के बाद नारियल फोड़ा गया. दीप प्रज्ज्वलन किया गया. इस वक्त महापौर मुरलीधर मोहोल ने कलाकारों की समस्याएं जल्द सुलझाने तथा कलाकारों के लिए रंगमंच जल्द कैसे उपलब्ध होगा? इस बारे में प्रयास करने का आश्वासन सभी को दिया.

मेघराज राजेभोसले ने कहा कि बालगंधर्व परिवार द्वारा 14 वर्षों से स्थापना दिवस मनाया जाता है. 3 दिन समारोह किया जाता है. कला प्रेमियों के लिए भावगीत, भक्तिगीत को लेकर लावणी नृत्य तक कार्यक्रम पेश किए जाते हैं. पुणेवासियों के लिए मुफ्त होने वाले इन कार्यक्रमों का आयोजन पिछले 14 वर्षों से किया जाता है. सुबह 8 से रात एक बजे तक कार्यक्रम जारी रहते हैं.