पुणे में 8 दिन में 73, 691 लोगों को दी वैक्सीन

    पुणे. कोरोना (Corona) से संरक्षण देने के लिए शुरू वैक्सिनेशन (Vaccination) में पुणे शहर (Pune City) 22 मई से 29 मई तक वेक्सीनेशन में काफी आगे रही। इन आठ दिनों में 73 हज़ार 691 लोगों का वेक्सीनेशन किया गया। खास बात यह है कि इसमें 18 से 44 उम्र के 75 फीसदी लोगों का वेक्सीनेशन किया गया। प्राइवेट हॉस्पिटलों (Private Hospitals) में वेक्सीनेशन ने युवा वर्ग को बड़ी राहत दी है। 22 मई से फिर से शुरू हुई है। 18 से 44 उम्र के लोगों के वेक्सीनेशन की प्रक्रिया। पहले दिन 560 लोगों को वैक्सीन दी गई। यह आंकड़ा दिन प्रतिदिन दोगुना होता गया।

    29 मई को इस वर्ग के 10 हज़ार 268 लोगों को वैक्सीन दी गई। इस दिन दिनभर में 11 हज़ार 989 लोगों को वैक्सीन दी गई।  राज्य सरकार ने 1 मई से 18 से 44 उम्र के लोगों वेक्सीनेशन शुरू किया है लेकिन शुरुआत में ऑनलाइन रेजिस्ट्रेशन की अनिवार्यता और रेजिस्ट्रेशन शुरू होते ही बुक होने वाले स्लॉट की वजह से परेशानी होने लगी। इसलिए 9 दिनों तक यह वेक्सीनेशन बंद रखा गया। इसके बाद 22 मई से प्राइवेट हॉस्पिटलों में वेक्सीनेशन शुरू हुआ।  इससे इस वर्ग को बड़ी राहत मिली है।

    अब तक 10 लाख से ज्यादा लोगों को दिए वैक्सीन

    इनमें सबसे अधिक 45 से 59 उम्र के 3 लाख 383 लोगों का वेक्सीनेशन हो चुका है।  इनमे से 53 हज़ार 387 लोगों को दूसरा डोज भी पड़ चुका है।  सरकार के नए नियम के अनुसार 84 दिनों में दूसरा डोज लेना है।  इस वर्ग के बहुत सारे लोगों को दूसरा डोज 39 दिनों से लंबा खींच गया। 2 लाख 56 हज़ार 238 लोगों का दूसरा डोज पूरा शहर में 18 वर्ष के करीब 33 लाख लोगों का वेक्सीनेशन करने का उद्देश्य मनपा ने रखा है। इसमें प्राइवेट हॉस्पिटलों ने वेक्सीनेशन को 22 मई से बड़ी ताकत दी है।  अब तक कुल 10 लाख 25 हज़ार 573 लोगों का वेक्सीनेशन हुआ है जिसमें 2 लाख 56 हज़ार 238 लोगों को दूसरा डोज मिल चुका है।

    शहर में कुल वेक्सीनेशन 

    वर्ग        पहला डोज   दूसरा डोज
    स्वास्थ्य कर्मचारी  60,021 46,206
    फ्रंटलाइन वर्कर  70,260   25,405
    सीनियर सिटीज़न  2,86,802   1,31,240
    45 से 59 उम्र वर्ग 3,00,383 53,387
    18-44 उम्र वर्ग    54,869