Action on 322 passengers traveling without masks

    पुणे. कोविड-19 महामारी के संक्रमण (Corona Infection) की रोकथाम के लिए मास्क (Mask) आवश्यक होने के बाद भी कुछ लोग बिना मास्क (Without Mask) के घूम रहे हैं। ऐसे ही 322 रेल यात्रियों से जुर्माना (Fine) वसूला गया है। पुणे रेल मंडल ने मई महीने में बिना मास्क वाले लोगों से जुर्माने के रूप में एक लाख 15 हजार रुपए की राशि वसूल की है। बिना मास्क वाले ऐसे यात्रियों को रसीद के साथ मुफ्त में मास्क भी दिए जा रहे हैं। 

    रेलवे की इस पहल से यात्रियों में जागरूकता आएगी और वे महामारी की गंभीरता को भी समझेंगे। कोरोना महामारी के चलते वर्तमान स्थिति से निपटने के उपायों के तहत पुणे रेल मंडल यात्रियों से अपील करता है कि वे स्टेशन परिसर में तथा रेल यात्रा के दौरान फेस मास्क अवश्य पहने। स्टेशन तथा ट्रेनों में इधर-उधर नहीं थूंके और गंदगी नहीं करें। साफ-सफ़ाई रखने में रेल प्रशासन को सहयोग करें। यात्रियों को सलाह दी जाती है कि सभी रेल गाड़ियों, उपनगरीय ट्रेनों सहित रेलवे परिसर में कोविड-19 से संबंधित सभी मानदंडों, एसओपी का पालन करें।

    सहायकों को बांटा राशन

    कोविड महामारी और निरंतर लॉकडाउन के मद्देनजर सीमित संख्या में गाड़ियां चलाई जा रही है। जिसके परिणाम स्वरूप पुणे मंडल में सहायकों (लाइसेंस पोर्टरों) की आजीविका भी प्रभावित हुई है। उनकी कठिनाइयों को कम करने के लिए पुणे रेल मंडल तथा दुग्गड़ ग्रुप परिवार के संयुक्त प्रयास से पुणे स्टेशन पर 160 सहायक को पर्याप्त मात्रा में चावल, आटा, चीनी, तेल, नमक आदि जीवनावश्यक किराना वस्तुएं वितरित की गई। साथ ही पुणे रेल मंडल द्वारा कोविड महामारी से बचाव के लिए मास्क, सैनिटाइजर, साबुन भी पुणे स्टेशन के सभी 160 सहायकों को वितरित किए गए। सभी को कोविड से बचाव के लिए मास्क पहनने, सैनिटाइजर का उपयोग करने, बार-बार साबुन से हाथ धोने के बारे में जानकारी देकर जागरूक किया गया।