Corona Death
Representational Pic

    पुणे. कोरोना (Corona) के प्रकोप से सबसे ज्यादा प्रभावित पुणे (Pune) से एक दिल दहलाने वाली खबर है। यहां कोरोना वायरस के संक्रमण ने एक पूरे परिवार को ही निगल लिया है। पिछले 15 दिनों में एक-एक कर पुणे के जाधव परिवार के पांच लोग मौत (Death) की आगोश में चले गए। मां अलका जाधव, भाई रोहित जाधव, अतुल जाधव और बहन वैशाली गायकवाड की कोरोना से मौत हो गई। बताया जा रहा है कि एक पूजा के कार्यक्रम में यह परिवार इकट्ठा हुआ था। पूजन के कार्यक्रम के बाद घर में कोरोना का संक्रमण एक-दूसरे को फैलता गया और देखते ही देखते जाधव परिवार खत्म होता गया।

    कोरोना से एक ही परिवार के पांच लोगों की मौत होने से पूरे इलाके में दहशत का माहौल है। सिर्फ 15 दिनों में परिवार के 5 लोगों की मौत से कोरोना के खतरे की गंभीरता का अंदाजा लगाया जा सकता है। जाधव परिवार ने कुछ दिनों पहले घर में पूजा का आयोजन किया था। इस पूजा के कार्यक्रम में घर के सभी सदस्य शामिल हुए। इनमें से किसी एक से सबको एक के बाद एक कोरोना का संक्रमण होता गया। धीरे-धीरे सबकी तबियत बिगड़ती गई और फिर जब तक परिवार एक धक्के से संभलता कि दूसरा धक्का आ जाता और देखते ही देखते सिर्फ 15 दिनों में पूरा परिवार तबाह हो गया, बर्बाद हो गया। देखते ही देखते एक पूरा परिवार कोरोना के चलते मौत की आगोश में चले जाने की इस घटना ने समस्त पुणे को झकझोर कर रख दिया है।

    पुणे में कोरोना की स्थिति भयंकर

    गौरतलब है कि पुणे में कोरोना की स्थिति भयंकर से भयंकर होती जा रही है। हर रोज कोरोना संक्रमितों की संख्या में वृद्धि होती जा रही है। आंकड़ों की मानें तो भारत में कोरोना के सबसे ज्यादा ऐक्टिव पॉजिटिव केस पुणे में हैं। पूरे देश में जो तीन शहर सबसे बुरी तरह प्रभावित हैं, वे तीनों भी महाराष्ट्र से हैं और उनमें मुंबई, पुणे, नागपुर शामिल हैं। उनके साथ नासिक पिछले एक महीने में सबसे ज्यादा कोरोना संक्रमितों की संख्या में एक से लेकर चार नंबर तक कायम हैं। पुणे में कोरोना की इसी भयानक वास्तविकता को ध्यान में रखते हुए सभी हाउसिंग सोसाइटियों पर बाहर से किसी भी आने वाले व्यक्ति को प्रवेश देने पर पाबंदी लगाई गई है। लॉकडाउन सख्त कर दिया गया है और संचारबंदी के नियमों को तोड़ने पर कार्रवाई की जाएगी, यह चेतावनी पुणे के सह पुलिस आयुक्त डॉ. रविंद्र शिसवे ने दी ही।