Workers not coming to work at the original place

पुणे. महापालिका के हाउस लीडर और डिप्टी मेयर के पद में सत्ताधारी बदलाव कर रही है। हाउस लीडर के बदलाव के बाद फिर से आरपीआई (RPI) को डिप्टी मेयर पद देने का फैसला किया गया है। पर आरपीआई में इस पद को लेकर आंतरिक घमासान मचा हुआ है। एक समूह ने अल्पसंख्यक सदस्य को मौका देने की मांग कर दी है। अब यह आंतरिक विवाद केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले तक पहुंच गया है।

आरपीआई-भाजपा का गठबंधन

महापालिका में भाजपा-रिपब्लिकन पार्टी का गठबंधन है। इसके तहत डिप्टी मेयर का पद रिपब्लिकन पार्टी के हिस्से है। इसके तहत पहली बार डॉ. सिद्धार्थ धेंदे डिप्टी मेयर बने थे। भाजपा ने पिछले साल इस पद के लिए भाजपा के सरस्वती शेंडगे को चुना था। उस समय भाजपा ने असंतुष्ट आरपीआई को अगले साल बहाल करने का वादा किया था। डिप्टी मेयर को बदलने के फैसले के बाद आरपीआई को पद फिर से सौंपा जाने की संभावना है।

पिछले साल, आरपीआई ने सुनीता वाडेकर को नगर पालिका में समूह के नेता का पद दिया गया था। साथ ही, स्थायी समिति की सदस्यता हिमाली कांबले को दी गई। इसलिए रिपाई के एकमात्र अल्पसंख्यक पार्षद फरजाना शेख ने डिप्टी मेयर के पद पर अपना दावा ठोंका है। आरपीआई का एक समूह शेख के पक्ष में खड़े हो कर सुनीता वाडेकर के नाम का विरोध करना शुरू कर दिया। जब विवाद राष्ट्रीय अध्यक्ष रामदास आठवले तक पहुंचा तो उन्होंने सभी पदाधिकारियों को पार्टी के गतिरोध को समाप्त करने का निर्देश दिया।

रिपब्लिकन पार्टी का गठन भारत रत्न डॉ. बाबासाहेब आम्बेडकर के खुले पत्र पर किया गया था। कहा जाता है कि इस पार्टी में सभी जातियों और धर्मों के लोगों को समान न्याय दिया जाता है। बौद्ध समुदाय के अलावा, बड़ी संख्या में मातंग, मुस्लिम और अन्य दलित जातियों के कार्यकर्ता वर्षों से इस पार्टी में काम कर रहे हैं।  तो उम्मीद है कि अल्पसंख्यक समुदाय को न्याय मिलेगा।

– फरजाना शेख, नगरसेविका, आरपीआई