कोरोना से हिफाजत करेगा कलाई पर बंधा बैंड

– पुणे के युवा मैकेनिकल इंजीनियरों का अनूठा आविष्कार

-दिनभर सैनिटाइजर की बोतल संभाले रखने की जरूरत नहीं

पुणे. वैश्विक महामारी कोरोना के संकटकाल में सैनिटाइजर और मास्क इस बीमारी से लड़ने के अहम हथियार साबित हुए हैं. लोग बाहर निकलते वक्त ये शस्त्र साथ लेना नहीं भूलते. हालांकि सैनिटाइजर की बोतल साथ लेकर घूमना थोड़ा अटपटा लगता है. कई बार इसकी बोतल कहीं छूट जाती है या फिर जल्दबाजी में उसे साथ लेकर निकलना ध्यान में नहीं रहता. 

इस दिक्कत को दूर करने में पिंपरी-चिंचवड़ निवासी दो नौजवानों का एक अविष्कार कारगर साबित हो रहा है. इन युवाओं ने हाथ की कलाई में बांधे जानेवाली रिस्ट वाच की तरह एक सैनिटाइजर बैंड विकसित किया है, जिसे घर से निकलते वक्त पहनकर निकलने के बाद दिनभर सैनिटाइजर की बोतल संभाले रखने की जरूरत नहीं रही.

 किसने किया अविष्कार

इस अविष्कार का नाम है सैनिफिट. इसे कलाई पर एक घड़ी की तरह बांध सकते हैं. इसमें 20 मिली सैनिटाइजर भरा जा सकता है, जो दो दिन तक आपके हाथों को सैनिटाइज रखने के लिए पर्याप्त है. इसका अविष्कार किया है शुभम ठाकुर नामक युवा मैकेनिकल इंजीनियर ने. शुभम मैकेनिकल इंजीनियरिंग पूरा करने के बाद हेलमेट के लिए एसी बनाने वाली ब्लूआर्मर कंपनी का हिस्सा रहे.चार साल तक बेंगलुरु में स्टार्टअप इंडस्ट्री से जुड़े रहने के बाद वे पुणे आये.उनके साझेदार संकेत टाटिया हैं, जो खुद भी मैकेनिकल इंजीनियर हैं. वे भी इंजीनियरिंग के बाद कई मल्टीनेशनल कंपनियों से जुड़े थे.दोनों युवाओं ने साथ मिलकर भोसरी एमआईडीसी में टेस्ला एयर टेक्नोलॉजी नामक कंपनी शुरू की.

क्या है अविष्कार

शुभम और संकेत ने नवभारत संवाददाता के साथ की गई बातचीत में यह दावा किया कि उनकी टेस्लाएयर टेक्नोलॉजी में उत्पादित सैनिफिट बैंड पूरी तरह से स्वदेशी है.उनका कहना है कि एक व्यक्ति को दिनभर में अपने हाथों को सैनिटाइज करने के लिए 10 मिली सैनिटाइजर पर्याप्त है. इस सैनिफिट बैंड में एक बार में 20 मिली सैनिटाइजर भरा जा सकता है.कलाई में बांधने के बाद इसके निचले हिस्से में रहे कैप को खोलकर बैंड को बीच में प्रेस करने पर उसमें से सैनिटाइजर बराबर आपके हाथों में आ गिरता है.इसे पहनने के बाद आप अपने हाथों को दिनभर सैनिटाइज रखकर कोरोना से बचाव कर सकते हैं. इसके बाद आपको दिनभर बैग या जेब में सैनिटाइजर की बोतल रखकर घूमने की जरूरत नहीं है.

क्या है भविष्य की योजना

शुभम ने बताया कि पहले उनकी कंपनी ने नवजात बच्चों को शुद्ध हवा की आपूर्ति करनेवाले एक पोर्टेबल एसी का उत्पादन किया है.कोरोना का फैलाव होने के बाद उन्होंने सैनिटाइजर का महत्व समझा और तब सैनिफिट बैंड का आइडिया उन्होंने ढूंढ निकाला.सैनिफिट बैंड को स्मार्ट वॉच के तौर पर विकसित करने को लेकर उनका रिसर्च शुरू है.इस बैंड में समय और तारीख बतानेवाली घड़ी के अलावा ब्लूटूथ डिवाइस से भारत सरकार के आरोग्य सेतु ऐप को कनेक्ट किया जाएगा.इसे पहनने के बाद कोई कोरोना संक्रमित आपके दायरे में आता है तो वह विशिष्ट प्रकार से संकेत देकर आपको सचेत कर देगा.कुल मिलाकर हम लोगों को कोरोना से उनका बचाव करने में सहायक एक परिपूर्ण बैंड जल्द ही उपलब्ध कराने जा रहे हैं.जल्द ही इसका रिसर्च का काम पूरा कर इसे अंतिम रूप दिया जाएगा, यह भी उन्होंने बताया.