प्रभाग अध्यक्षों के चुनाव में भाजपा ने आसानी से मारी बाजी

  • भाजपा के सभी 8 उम्मीदवार निर्विरोध निर्वाचित
  • नामांकन न भरकर राष्ट्रवादी कांग्रेस रही मैदान से बाहर

पिंपरी. सत्तादल के खिलाफ विरोध की धार को तेज करने की घोषणा करनेवाली राष्ट्रवादी कांग्रेस पिंपरी-चिंचवड़ मनपा के प्रभाग अध्यक्षों के चुनाव के मैदान से बाहर रही. 8 में से एक भी प्रभाग में नामांकन दाखिल न किये जाने से भाजपा प्रत्याशियों के निर्विरोध निर्वाचन का रास्ता आसान बना. नतीजन शुक्रवार को हुए चुनाव महज औपचारिक भर साबित हुए. प्रभाग अध्यक्ष की आठों सीटों पर भाजपा के शर्मिला बाबर (अ प्रभाग), सुरेश भोईर (ब प्रभाग), राजेंद्र लांडगे (क प्रभाग), सागर आंगोलकर (ड प्रभाग), विकास डोलस (इ प्रभाग), कुंदन गायकवाड (फ प्रभाग), बाबासाहेब त्रिभुवन (ग प्रभाग) आणि हर्षल ढोरे (ह प्रभाग) निर्विरोध निर्वाचित हुए.

अप्रैल में ही पूरी हो गई थी मियाद

मौजूदा आठों अध्यक्षों की मियाद अप्रैल माह में समाप्त हो गई थी, मगर कोरोना की वजह से उनकी मियाद बढ़ा दी गई क्योंकि नियमानुसार प्रभाग समितियां बर्खास्त नहीं की जा सकती.कोरोना का संक्रमण कम होने के बाद राज्य सरकार ने नए अध्यक्षों के चुनाव कराने की अनुमति दे दी. इसके अनुसार मनपा के 8 प्रभाग अध्यक्षों के चुनाव आज (9 अक्टूबर) को घोषित किये. इसके लिए प्रभाग अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए सोमवार दोपहर 3 बजे से शाम 5 बजे तक नामांकन पत्र दाखिल करने की मियाद घोषित की गई थी.इस मियाद में भाजपा के उक्त 8 नगरसेवकों के नामांकन दाखिल किए. जबकि प्रमुख विपक्षी दल रहे राष्ट्रवादी कांग्रेस की ओर से किसी भी प्रभाग के अध्यक्ष पद के लिए नामांकन नहीं दाखिल किया गया.इससे भाजपा के सभी आठों नगरसेवकों के निर्विरोध निर्वाचन का रास्ता आसान बन गया.

राष्ट्रवादी के पास पर्याप्त संख्याबल नहीं

सत्तादल भाजपा की ओर से ‘अ’ और ‘ग’ प्रभाग अध्यक्ष पद के लिए मौजूदा अध्यक्ष शर्मिला बाबर और बाबा त्रिभुवन को पुनः प्रत्याशी घोषित किया गया है.जबकि ‘ब’ प्रभाग अध्यक्ष पद के लिए सुरेश भोईर, ‘क’ प्रभाग अध्यक्ष पद के लिए राजेंद्र लांडगे, ‘ड’ प्रभाग अध्यक्ष पद के लिए सागर आंगोलकर, ‘ई’ प्रभाग अध्यक्ष पद के लिए विकास डोलस, ‘ह’ प्रभाग अध्यक्ष पद के लिए हर्षल ढोरे और ‘फ’ प्रभाग अध्यक्ष पद के लिए कुंदन गायकवाड को प्रत्याशी घोषित किया गया है.राष्ट्रवादी द्वारा एक भी नामांकन दाखिल नहीं किये जाने से भाजपा के सभी प्रत्याशी निर्विरोध चुने गए. राष्ट्रवादी कांग्रेस की भूमिका स्पष्ट करते हुए विपक्षी दल के नेता राजू मिसाल ने कहा कि आठों प्रभागों में भाजपा का वर्चस्व है. राष्ट्रवादी के पास पर्याप्त संख्याबल नहीं रहने और कोरोना के हालातों के मद्देनजर नामांकन दाखिल नहीं करने का फैसला किया गया.

निर्वाचित होने पर स्वागत

मनपा मुख्यालय के मधुकर पवले सभागृह में इन चुनावों के लिए विशेष सभा आयोजित की गई थी. निर्वाचन अधिकारी के तौर पर पुणे के डिविजनल कमिश्नर की प्रतिनिधि के रूप में विकलांग कल्याण आयुक्त प्रेरणा देशभ्रतार उपस्थित थीं. हर प्रभाग समिति के अध्यक्ष पद के चुनाव के वक्त सभा शाखा सचिव के रूप में अ, ब, क, ड, इ, फ, ग और ह प्रभाग के प्रशासन अधिकारी क्रमवार सुचिता पानसरे, सोनम देशमुख, दिलीप आढारी, कैलास गावडे, अवधूत तावडे, वामन नेमाणे, श्रीनिवास दांगट उपस्थित थे.इस चुनाव के दौरान सभागृह में अतिरिक्त आयुक्त अजित पवार, नगरसचिव उल्हास जगताप, क्षेत्रीय अधिकारी चंद्रकांत इंदलकर, प्रशांत जोशी, अण्णा बोदडे, कैलास गावडे, बालासाहेब खांडेकर, मनोज लोणकर, स्मिता झगडे और संदीप खोत मौजूद थे. नवनिर्वाचित प्रभाग अध्यक्षों का महापौर ऊषा ढोरे, उपमहापौर तुषार हिंगे, सभागृह नेता नामदेव ढाके ने स्वागत कर उन्हें बधाइयां दी.