Maharashtra ranks third in foreign investment

सोलापुर. राष्ट्रवादी कांग्रेस के हाईकमान शरद पवार को लेकर भाजपा विधायक गोपीचंद पडलकर द्वारा दिए गए आपत्तिजनक बयान से पूरे महाराष्ट्र में बवाल मचा हुआ है. राष्ट्रवादी कांग्रेस द्वारा जगह जगह आंदोलन किये जा रहे हैं. 

सोशल मीडिया से लेकर सड़कों तक पडलकर के बयान की कड़े शब्दों में निंदा की जा रही है और भाजपा को भी उसकी संस्कृति याद दिलाई जा रही है. हालांकि पडलकर के इस बयान से भाजपा ने यह कहकर अपना पल्ला झाड़ लिया है कि शरद पवार जैसे अनुभवी और वरिष्ठ नेता को लेकर इस तरह की टिप्पणी गलत है.

पवार टिप्पणी करना उचित नहीं

भूतपूर्व मुख्यमंत्री और विधानसभा में विपक्षी दल के नेता देवेन्द्र फडणवीस ने सोलापुर में संवाददाताओं से कहा कि पार्टी के विधान परिषद सदस्य गोपीचंद पडलकर ने राष्ट्रवादी कांग्रेस प्रमुख और अनुभवी नेता शरद पवार पर जो टिप्पणी की वह उचित नहीं है और भावनाओं में बहकर की गयी थी. आज दिन में पडलकर ने पवार को ‘कोरोना’ बताते हुए कहा था कि उन्होंने पूरे महाराष्ट्र को संक्रमित कर दिया है. पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, वरिष्ठ नेताओं के खिलाफ ऐसी टिप्पणी करना समुचित नहीं है. पडलकर ने स्वीकार किया कि उन्होंने भावना में बहकर यह टिप्पणी की.

वे हमारे दुश्मन नहीं हैं

फडणवीस ने बताया कि इस बारे में मैंने पडलकर से बात की, उनसे कहा कि भले ही पवार साहब हमारे राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी हैं, लेकिन वह हमारे दुश्मन नहीं हैं. मैंने उनसे कहा कि पवार साहब को भूल भी जाओ तो किसी भी वरिष्ठ नेता के खिलाफ ऐसी टिप्प्णी करना उचित नहीं है. अगर कोई अपना विरोध दर्ज कराना चाहता है, तो उसके लिए उचित शब्दों का चयन और उपयोग करना चाहिए. उन्होंने कहा कि पडलकर ने कहा है कि वह इस पर स्पष्टीकरण देंगे. उन्होंने स्वीकार किया है. सभी दलों के युवा नेताओं को बोलते वक्त संयम बरतना चाहिए.