मंदिरों को खोलने के लिए भाजपा का सांकेतिक अनशन

पिंपरी. अनलॉक की प्रक्रिया में होटल, बार, रेस्टोरेंट समेत कई अधिष्ठानों को खोलने की अनुमति मिल गई है. मगर स्कूल, कॉलेज, मंदिर, जिम, थियेटर जैसे अधिष्ठान अभी भी बंद ही है. उन्हें खोलने की अनुमति देने की मांग जोर पकड़ने लगी है. उसी में भाजपा ने महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे की सरकार को मंदिरों को खोलने की अनुमति न देने को लेकर घेरने की कोशिश की है. इस कड़ी में मंगलवार को पिंपरी-चिंचवड़ में भाजपा की ओर से सांकेतिक अनशन किया गया. 

6 अलग-अलग जगहों पर आंदोलन

राज्य के धार्मिक स्थलों को खोलने की अनुमति देने की मांग को लेकर भाजपा द्वारा आज राज्यभर आंदोलन किया गया. पिंपरी-चिंचवड़ में भी 6 अलग- अलग जगहों पर यह आंदोलन और सांकेतिक अनशन किया गया. चिखली कुदलवाडी के श्री दुर्गामाता मंदिर से इस अनशन की शुरुआत की गई. यहां महापौर ऊषा उर्फ माई ढोरे, सामाजिक कार्यकर्ता दत्तात्रय गायकवाड, पूर्व महापौर नितीन कालजे, नगरसेविका निर्मला गायकवाड, सुवर्णा बुर्डे, सचिन तापकीर, गीता महेंद्र, उदय गाकवाड, सुनील लांडे, प्रवीण कालजे, महासचिव विजय फुगे, नगरसेविका प्रियांका बारसे, राजश्री जायभय, सरिता शर्मा, प्रसिद्धीप्रमुख संजय पटनी आदि शामिल हुए.

… तो महिलाएं मंदिरों के ताले तोड़कर प्रवेश करेंगी

चिंचवड गांव के श्रीमान मोरया गोसावी मंदिर प्रांगण में भी आंदोलन किया गया. इसमें महिला शहराध्यक्ष उज्ज्वला गावडे, महासचिव अमोल थोरात, विजय फुगे, नगरसेवक मोरेश्वर शेडगे, योगेश चिंचवडे समेत कई नगरसेवक, पदाधिकारी व कार्यकर्ते उपस्थित थे.पिंपरी चिंचवड के छह मंदिरों में आज दिनभर आंदोलन किया गया.विधायक महेश लांडगे ने  कहा, समूचे विश्व के समक्ष भक्ति का आदर्श रखनेवाला पालकी सम्मेलनों को राज्य सरकार के आदेशानुसार रद्द किया गया. सरकार और प्रशासन के हर फैसले का जनता ने आदर किया. मगर लॉकडाउन हटते ही सरकार ने सबसे पहले शराब की दुकानें खोली. बाद में होटल, बार, रेस्टोरेंट भी खोल दिये, मगर मंदिर खोलने का फैसला अब तक नहीं किया गया. मंदिर खोले गए तो कोरोना का संसर्ग बढ़ेगा, यह अनुसंधान राज्य सरकार ने किया है.नवरात्रि से पहले राज्य के सभी धार्मिक स्थलों को खोलने की अनुमति देने की मांग की ओर ध्यानाकर्षित करने के यह आंदोलन किया गया. यहां महापौर ऊषा ढोरे ने चेतावनी दी है कि मंदिरों को खोलने की अनुमति न देने की सूरत में भाजपा की महिलाएं मंदिरों के ताले तोड़कर प्रवेश करेंगी.