Police FIR

  • राष्ट्रीय हड़ताल में शामिल होना पड़ा भारी

पिंपरी. केंद्र सरकार द्वारा किसान और श्रमिक कानूनों में किए गए बदलाव का देशभर में विरोध किया जा रहा है. बीते दिन विरोध की कड़ी में राष्ट्रव्यापी हड़ताल की गई थी.

इस हड़ताल के अंतर्गत पिंपरी-चिंचवड़ शहर के पिंपरी चौक स्थित डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर स्मारक के पास मानवी श्रृंखला बनाकर केंद्र सरकार का निषेध व्यक्त किया गया. इस आंदोलन के जरिए जमाबंदी का उल्लंघन करने को लेकर आंदोलन में शामिल मजदूरों और मजदूर नेताओं के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है.

जमावबंदी, संचारबन्दी कानून का उल्लंघन

जिन लोगों के खिलाफ पिंपरी पुलिस थाने में मामला दर्ज किया गया है उनमें पुणे जिला मजदूर संगठन कृति समिति के अध्यक्ष कैलाश कदम, महाराष्ट्र मजदूर संघ के अध्यक्ष इरफान सय्यद, उपमहापौर केशव घोलवे, सामाजिक कार्यकर्ता मारुती भापकर, संजीवन कांबले, संदीप भेगडे, किशोर ढोकले, दिलीप पवार, अनिल माधवराव रोहम, अजित अभ्यंकर समेत कई मजदूरों और नेताओं का समावेश है.उनके खिलाफ़ भारतीय दंड संहिता की धारा 188, 269, महाराष्ट्र पुलिस एक्ट, संसर्गजन्य रोग अधिनियम, राष्ट्रीय आपदा अधिनियम, महाराष्ट्र कोविड 19 उपायों के तहत मामला दर्ज किया गया है. इस मामले में पुलिस सिपाही मीनाक्षी प्रभु राले ने पिंपरी पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई है. 

विरोध में नारेबाजी की 

पुलिस ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि गुरुवार को उपरोक्त आरोपित और उनके समर्थक मजदूर बड़ी संख्या में पिंपरी चौक में इकट्ठा हुए और केंद्र सरकार द्वारा किसान और श्रमिक कानूनों में किए गए बदलाव के विरोध में पोस्टर लेकर नारेबाजी की और मानव श्रृंखला बनाई.इससे महामारी कोरोना संकट के समय शहर में लागू किए गए जमाबंदी, संचारबन्दी कानून का उल्लंघन हुआ है.इसके चलते सभी के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है.