Case registered

    पुणे. महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) ने सचिन वझे को 100 करोड़ रुपए वसूली का आदेश दिया था। यह सनसनीखेज आरोप मुंबई (Mumbai) के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह (Former Commissioner of Police Parambir Singh) ने लगाया था। इस आरोप के बाद गृहमंत्री के इस्तीफे (Resignation) की मांग के लिए भाजपा ने पुणे में आंदोलन किया। हालांकि महामारी कोरोना के मद्देनजर भीड़ जुटाने या किसी भी आयोजन पर रोक लगाई गई है। इसका उल्लंघन करने को लेकर पुलिस (Police) ने भाजपा (BJP) प्रदेशाध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल (Chandrakant Patil) के साथ 40-50 प्रमुख नेताओं के खिलाफ मामला दर्ज (Case Registered) किया है।

    मामला दर्ज किए गए नेताओं में भाजपा प्रदेशाध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल, पूर्व विधायक व शहराध्यक्ष जगदीश मुलिक, योगेश टिलेकर, राजेश पांडे, गणेश घोष, राजेश येनपुरे, सुशील मेंगडे, संदीप खेडेकर,धीरज घाटे, दीपक पोटे, वर्षा तापकीर, कल्पना पुरंदरे, अर्चना पाटिल के साथ 40-50 कार्यकर्ताओं का समावेश है। 

    भाजपा कार्यकर्ताओं ने किया था आंदोलन

    गौरतलब है कि भाजपा कार्यकर्ताओं ने रविवार को गृहमंत्री देशमुख के इस्तीफे की मांग को लेकर पुणे के अलका टॉकीज के पास तिलक चौक पर आंदोलन किया था। इस मौके पर गैरकानूनी तरीके से भीड़ जमा कर राज्य सरकार के प्रतिबंधात्मक आदेश का उल्लंघन करने को लेकर पुलिस ने भाजपा नेता व कार्यकर्ताओं के खिलाफ मामला दर्ज किया है।