AJit Pawar Baithak

  • उपमुख्यमंत्री अजीत पवार की जानकारी

पुणे. बेमौसम बारिश से पश्चिम महाराष्ट्र में खासकर पुणे जिले में बेमौसम बारिश का सबसे अधिक असर किसानों पर पड़ा है. कई जगहों पर घर ढह गए हैं, फसलों का काफी नुकसान हुआ है. राज्य के उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने शुक्रवार को पुणे में अतिवृष्टि और बाढ़ के हालातों का जायजा लिया. साथ ही मौसम विभाग द्वारा जारी किए गए अलर्ट के अनुसार प्रशासन को अगले 2 दिन तक मुस्तैद रहने के आदेश दिए हैं. 

उन्होंने कहा कि बारिश के बारे मौसम विभाग का अनुमान सही हुआ. इस बेमौसम बारिश से हुए नुकसान का मुआवजा दिया जाएगा. पंढरपुर में निर्माणधीन दीवार गिरने की घटना पर दोषियों पर मानव हत्या का मामला दर्ज करने के आदेश भी दिए हैं. 

जिनका नुकसान हुआ उन्हें जरूरी मदद मिलेगी

सोलापुर, पंढरपुर और बारामती में राष्ट्रीय आपत्ति प्रतिसाद दल, एनडीआरफ की टुकड़ियों को तैनात किया गया है. उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने कहा कि पुणे शहर में 2019 में हुई बारिश और नुकसान के बाद रिटेंशन वाल का निर्माण करना चाहिए था, क्यों नहीं किया? इसकी जांच होगी. पिछले कुछ दिनों से हो रही बारिश से हुए नुकसान के बारे में राज्य सरकार ने रिपोर्ट मांगना शुरू किया है, लेकिन इस मदद में केंद्र के नियम है. जिन लोगो का नुकसान उन्हें मदद दी जाएगी. ये मदद केंद्र सरकार को भी करनी चाहिए. पवार ने कहा कि इस साल शुगर फैक्ट्री का क्रसिंग सीजन 10 दिन देरी से हो रहा है. एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि जलयुक्त शिवार कैग रिपोर्ट भाजपा के समय आया था, इसकी जांच के पीछे बदल की भावना नहीं है. शिवेंद्र सिंह राजे विकास काम के लिए मिलकर गए हैं, ऐसी मीटिंग होती रहती है. उसका गलत मतलब निकालना ठीक नहीं है, यह भी उन्होंने एक जवाब में कहा.

सभी अधिकारी और राजनेता उपस्थित थे

उपमुख्यमंत्री की प्रमुख उपस्थिती में वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए हुई इस समीक्षा बैठक में विधान परिषद की उपसभापति डॉ. निलम गोऱ्हे, पुणे के महापौर मुरलीधर मोहोल, जिला परिषद की अध्यक्षा निर्मला पानसरे, सांसद डॉ.अमोल कोल्हे, विधायक अशोक पवार, संजय जगताप, एड राहुल कुल, सुनील शेलके, चेतन तुपे, अतुल बेनके, डिविजनल कमिश्नर सौरभ राव, ससून हॉस्पिटल के विशेष कार्य अधिकारी एस.चोक्कलिंगम, कोल्हापुर परिक्षेत्र के विशेष पुलिस महानिरीक्षक मनोज लोहिया, पुणे मनपा कमिश्नर विक्रम कुमार, पिंपरी-चिंचवड मनपा कमिश्नर श्रावण हर्डीकर, जिलाधिकारी डॉ. राजेश देशमुख, पुणे महानगर प्रदेश विकास प्राधिकरण के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुहास दिवसे, पुणे मनपा के अतिरिक्त आयुक्त शांतनु गोयल, पुणे जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी आयुष प्रसाद, पुलिस कमिश्नर अमिताभ गुप्ता, कृष्णप्रकाश, जिला पुलिस अधीक्षक अधीक्षक डॉ अभिनव देशमुख, स्वास्थ्य विभाग के सलाहकार डॉ. सुभाष सालुंखे, ससून के अधिष्ठाता डॉ. मुरलीधर तांबे, जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. भगवान पवार, जिला टास्कफोर्स के अध्यक्ष डॉ. डी.बी. कदम आदि समेत अन्य वरिष्ठ अधिकारी, पदाधिकारी उपस्थित थे.