पुलिस कमिश्नर पर शिकायतों और सुझावों की बारिश

  • कमिश्नर ने दिलाया सुरक्षित माहौल देने का भरोसा
  • छेड़छाड़,अवैध धंधे, स्ट्रीट क्राइम के विषयों पर हुई चर्चा

पिंपरी. महिलाओं की सुरक्षा के मसले पर चर्चा करने के लिए पिंपरी-चिंचवड शहर के चिंचवड स्थित ऑटो क्लस्टर में महापौर ऊषा ऊर्फ माई ढोरे की अध्यक्षता तथा पुलिस कमिश्नर कृष्णप्रकाश के साथ नगरसेविकाओं की एक अहम बैठक संपन्न हुई. इसमें महिला अत्याचार और छेड़छाड़ की घटनाओं से लेकर अवैध धंधे, स्ट्रीट क्राइम तक के विषयों पर चर्चा करते हुए उनकी रोकथाम को लेकर सुझावों की वर्षा की गई. इस पर पुलिस कमिश्नर ने महिलाओं समेत समस्त शहरवासियों को सुरक्षित माहौल उपलब्ध कराने को लेकर कटिबद्धता जताई.

शिक्षा संस्थानों में छेड़छाड़ रोकने अलग दस्ता होगा गठित

छेड़छाड़ की घटनाओं की रोकथाम के लिए स्कूल- कॉलेज परिसरों में पुलिस के अलग दस्ते गठित किए जायेंगे. मनचलों और अपराधियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के लिए शिकायत दर्ज कराने के लिए आगे आने की अपील करते हुए उन्होंने कहा कि पुलिस दल में 90 फीसदी लोग अपना काम पूरी ईमानदारी से करते हैं, केवल 10 फीसदी लोगों की वजह से पूरे पुलिस बल की प्रतिमा मलीन होती है. सुलह के नाम पर दलाली करनेवालों को दूर रखने के आदेश दिए गए हैं. नियमबाह्य तरीके से काम करनेवाले पुलिसवालों के खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी.

नागरिकों का सहयोग जरूरी

पिंपरी-चिंचवड़ में भले ही पुलिसवालों की संख्या कम है, मगर नागरिकों के सहयोग से न केवल इस कमी को पूरा किया जा सकता है बल्कि शहर में कानून व्यवस्था और अमन बनाये रखने में भी मदद मिलेगी. क्योंकि आम नागरिक ही विश्वसनीय जानकारी का स्त्रोत होता है. ऐसे में लोगों को भी चाहिए कि वे पुलिस का सहयोग दें, यह अपील भी उन्होंने की. जनता से सहयोग की अपील के साथ पुलिस कमिश्नर कृष्णप्रकाश ने किसी भी हाल में कानून को अपने हाथों में न लेने को लेकर चेताया भी. साथ ही जनप्रतिनिधियों को भी समझाइश दी कि वे नियमानुसार कार्रवाई करते वक्त पुलिस के काम में दखलंदाजी न करें क्योंकि कानून और नियमों का उल्लंघन किया गया तो पुलिस अपनी कार्रवाई करेगी ही.

पुलिस की गश्त बढ़ाने की मांग

इस बैठक में नगरसविकाओं ने अवैध धंधों की रोकथाम, महिलाओं और युवतियों से छेड़छाड़ की घटनाएं रोकने, महिलाओं और युवतियों के कामकाज, स्कूल-कॉलेज, बाजार परिसरों के लिए उड़न दस्ते गठित करने, रात में पुलिस की गश्त बढाने, युवाओं को अपराध की ओर आकर्षित होने से रोकने, आपराधिक गिरोहों पर नकेल कसने, शिकायत दर्ज कराने जाने पर पुलिस से महिलाओं को सम्मानजनक बर्ताव मिलने, पुलिस और नागरिकों के बीच दूरियां बनाने वाकई दलालों का हस्तक्षेप रोकने जैसी कई शिकायतें की गई और सुझावों की बारिश की गई. इस बैठक में सभागृह नेता नामदेव ढाके, विपक्ष के नेता राजू मिसाल, मनपा कमिश्नर श्रावण हर्डीकर, पुलिस उपायुक्त सुधीर हिरेमठ, नगरसदस्या सिमा सावले, सहायक आयुक्त अण्णा बोदडे, अ प्रभाग समिति अध्यक्षा शर्मिला बाबर, ब प्रभाग समिति अध्यक्षा सुरेश भोईर, मनसे के गुटनेता सचिन चिखले, भूतपूर्व महापौर मंगला कदम आदि उपस्थित थीं.

पुलिस दल में 90 फीसदी लोग अपना काम पूरी इमानदारी से करते हैं, केवल 10 फीसदी लोगों की वजह से पूरे पुलिस बल की प्रतिमा मलीन होती है. सुलह के नाम पर दलाली करनेवालों को दूर रखने के आदेश दिए गए हैं. नियमबाह्य तरीके से काम करनेवाले पुलिसवालों के खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी. -कृष्णप्रकाश, पुलिस कमिश्नर, पिंपरी-चिंचवड