जंबो अस्पताल में जरूरी सुविधाएं 7 दिनों में पूरी करें

  •  स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने दिए निर्देश
  • जंबो अस्पताल में सुविधाओं का लिया जायजा

पुणे. राज्य के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने सोमवार को कोरोना रोगियों की बढ़ती संख्या को देखते हुए जम्बो अस्पताल का निरीक्षण किया. साथ ही  चिकित्सा इकाई (आईसीयू) और कृत्रिम श्वसन (वेंटीलेटर) के निर्माण कार्य को 7 दिन के अंदर पूरा करने का निर्देश दिया.

 दवाओं की कमी ना हो

 स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने जंबो अस्पताल में सुविधाओं का निरीक्षण किया. मरीजों से बातचीत की और अस्पताल द्वारा उपलब्ध कराए जा रहे उपचार के बारे में जानकारी ली. स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा कि कोरोना संकट को दूर करने के लिए राज्य सरकार द्वारा विभिन्न निवारक उपाय लागू किए जा रहे हैं.  कोरोना से पीड़ित रोगियों को समय पर उपचार प्रदान करने के लिए पुणे में एक जंबो अस्पताल की स्थापना की गई है. 

योजना  बनाने का भी निर्देश

उन्होंने योजना  बनाने का भी निर्देश दिया ताकि दवाओं की कमी न हो. टोपे ने कहा कि कोरोना रोग में सीटी स्कैन महत्वपूर्ण है, इस परीक्षण के लिए मोबाइल सीटी स्कैन की सुविधा जंबो अस्पताल में उपलब्ध कराई जानी चाहिए.  उन्होंने कोरोना उपचार सुविधा को सुविधाजनक बनाने के लिए हेल्पलाइन नंबर के बारे में अधिक जागरूकता पैदा करने के लिए प्रणाली को भी निर्देशित किया.  रिश्तेदार वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से जंबो अस्पताल में इलाज कराने वाले मरीजों से संपर्क करने की सुविधा का लाभ उठा रहे हैं. रिश्तेदार वीडियो कॉल के जरिए मरीजों से संवाद कर सकते हैं. स्वास्थ्य मंत्री टोपे ने सुविधाओं पर संतोष व्यक्त किया.

बाणेर के अस्पताल का भी निरीक्षण

स्वास्थ्य मंत्री टोपे ने बाणेर  में स्थापित कोविड़ अस्पताल में सुविधाओं का भी निरीक्षण किया. सहायक आयुक्त जयदीप पवार ने अस्पताल में सुविधाओं के बारे में जानकारी दी. इस अवसर पर आयुक्त विक्रम कुमार, पार्षद ज्योति कलामकर, बाबूराव चांदेरे,  अमोल बालवड़कर  उपस्थित थे.  उन्होंने कोविड़ अस्पताल, बानेर  में ऑक्सीजन सुविधा के लिए लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन टैंक, ऑक्सीजन सिलेंडर, मैनिफोल्ड, शेड और कंप्रेसर, वैक्यूम पंप की सुविधाओं का भी निरीक्षण किया.